--Advertisement--

सेंधवा / पहली पत्नी से विवाद के बाद बच्चों को कुएं में धक्का देकर मार दिया



सरपंच से जानकारी लेते आयोग के सदस्य आशीष कपूर (दाएं सफेद शर्ट में) सरपंच से जानकारी लेते आयोग के सदस्य आशीष कपूर (दाएं सफेद शर्ट में)
X
सरपंच से जानकारी लेते आयोग के सदस्य आशीष कपूर (दाएं सफेद शर्ट में)सरपंच से जानकारी लेते आयोग के सदस्य आशीष कपूर (दाएं सफेद शर्ट में)
  • पांच बच्चों की हत्या का मामला, घरेलू कलह बनी वारदात की वजह
  • घटना के बाद फांसी लगाकर आत्महत्या का किया था प्रयास

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 01:32 AM IST

सेंधवा.  दोनों पत्नियाें ने साथ रहने से इनकार कर दिया था। घटना के दिन 8 अक्टूबर को पहली पत्नी से विवाद हुआ। इसके बाद वो चली गई। बच्चों को कैसे रखता। इसलिए बच्चों को मारने और खुद मरने का सोचा। बच्चों को कुएं में धक्का देकर मार डाला। इसके बाद खुद भी आत्महत्या का प्रयास किया लेकिन नाकाम रहा। अपने 5 बच्चों की नृशंस हत्या करने वाले आरोपी भतरसिंह उर्फ भतरिया पिता चमारिया निवासी ससत्या फलिया चिखली ने गिरफ्तारी के बाद ये खुलासा किया। आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद ग्रामीण पुलिस थाना में शनिवार शाम 5 बजे प्रेसवार्ता ली गई। इसमें एसपी विजय खत्री, एएसपी ओएस कनेश और ग्रामीण थाना प्रभारी दिनेशसिंह चौहान ने घटना के बारे में जानकारी दी।

पहली पत्नी का गला दबाया, फिर बच्चों को कुएं में धकेल दिया

  1. पुलिस ने बताया आरोपी भतरसिंह ने चार साल पहले धावड़ी निवासी सुनीताबाई से दूसरी शादी की थी। इसके बाद वो पहली पत्नी सुंगीबाई और उसके बच्चों को साथ नहीं रखना चाहता था। इसी बात पर भतरसिंह ने उसकी पहली पत्नी सुंगीबाई से मारपीट कर गला दबाने का प्रयास किया था। इसके बाद सुंगीबाई भाग गई थी। 
    आक्रोशित आरोपी भतरसिंह ने गुस्से में सुंगीबाई के चार बच्चे संदीप, प्रदीप, रंदीप, सहादर उर्फ राजेश और दूसरी पत्नी सुनीता के एक बेटे रोहित को रूमालिया के कुएं में धकेलकर हत्या कर दी। जब  उसे लगा कि सभी बच्चे डूबकर मर गए हैं तभी वो घटनास्थल से गया।  

  2. बच्चों की हत्या करने वाला आरोपी खुद मरने से डरा

    बालसंहार का आरोपी भतरसिंह बच्चों को मारने के बाद पहली पत्नी सुंगीबाई को ढूंढते हुए उसके मायके झिरीजामली पहुंचा। परिजनों ने बताया वो यहां नहीं आई। इसके बाद चिखली लौटकर घर से रस्सी ली। गांव के पास महुए के पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या की कोशिश की लेकिन दर्द होने पर पेड़ की टहनी पकड़ ली और फंदा निकालकर नीचे उतर गया। रात को गांव में रुककर महाराष्ट्र चला गया। एक दिन मजदूरी की।

  3. सरपंच से बात होने के बाद वापस आया। इस बीच पुलिस ने सेंधवा में नए बस स्टैंड के पास से उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने उसे घटनास्थल पर जाकर तस्दीक की। जिस रस्सी से फंदा बनाकर आत्महत्या का प्रयास किया था उसे भी बरामद किया।  

  4. गौरतलब है कि 10 अक्टूबर को बच्चे के शव मिलने के बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की। जांच में लोगों ने भतरसिंह को बच्चों के साथ कुएं तक जाने और अकेले वापस आने की जानकारी दी। हत्या के पहले भतरसिंह ने दिनेश की दुकान से बच्चों के लिए सेंव खरीदी थी। दुकानदार ने भी उसे पहचाना। पुलिस ने जांच के बाद साक्ष्यों के आधार पर बच्चों के पिता भतरसिंह के खिलाफ केस दर्ज किया था। उधर, बाल अधिकार संरक्षण आयोग भोपाल की टीम भी मामले को संज्ञान में लेकर जांच कर रही है। 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..