--Advertisement--

भावी पीढ़ी को कैसा संदेश दे रही है हमारी संवेदनहीनता?

करंट अफेयर्स पर 30 से कम उम्र के युवाओं की सोच नगमा नासिर,19 ललित नारायण मिश्रा मिथिला विश्वविद्यालय, दरंभगा,...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:40 AM IST
करंट अफेयर्स पर 30 से कम उम्र के युवाओं की सोच

नगमा नासिर,19

ललित नारायण मिश्रा मिथिला विश्वविद्यालय, दरंभगा, बिहार

देश में लोगों की असहिष्णुता और संवेदनहीनता की हदें पार हो गई हंै। दिन-ब-दिन लोगों की नैतिकता और सामाजिक मूल्यों में पतन गंभीर चिंता का विषय है। हाल ही में केरल में एक युवक को पीट-पीट कर मार देने की घटना मानवता को शर्मसार करने वाली थी। इतना ही नहीं, मार कर सेल्फी लेने और फिर उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट करने की हरकत झकझोर देती है। दरअसल, केरल के पलक्कड़ जिले में चोरी के आरोप में एक 27 वर्षीय युवक की ग्रामीणों ने हत्या कर दी। ऐसे दर्जनों उदाहरण हैं, जब लोग सड़क दुर्घटनाओं, मारपीट या अन्य परेशानियों में सहायता की दुहाई दे रहे होते हैं, लेकिन खुद को सभ्य समाज का अंग बताने वाले लोग सहायता करने की बजाय ऐसी क्रूरताओं का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर साझा करते हैं।

अलवर में पहलू खान या दिल्ली में अंकित नामक युवक की हत्या हो या उत्तर प्रदेश के उन्नाव में मोनी नामक युवती की पेट्रोल छिड़क कर हत्या, ये सभी घटनाएं हमारे समाज का भद्‌दा पक्ष उजागर करती है। लोगों की असामाजिकता और संवेदनहीनता इन अपराधों को बढ़ावा देने का काम करती है। सवाल है कि वर्तमान और भावी पीढ़ियों की फिक्र किए बिना लोगों की बर्बरता और संवेदनहीनता इस समाज को किस मुहाने पर ले जाएगी? जब हमारे अंदर ही इंसानियत नहीं बचेगी तो हम अपने बच्चों को किस इंसानियत का पाठ पढ़ाएंगे? यकीन मानिए कि हमारी अगली पीढ़ी बहुत खूंखार बनने वाली है। दिल्ली के एक विद्यालय में ग्यारहवीं जमात के बच्चे द्वारा प्रद्युम्न नामक मासूम की हत्या इसी का उदाहरण है। इससे इतर हम देखें तो हमारी हरकतें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हमारी छवि धूमिल करती है। जिस प्रकार हम पाकिस्तान और सीरिया की संवेदनहीनता का मजाक बनाते हैं जाहिर है कोई हमारा भी मजाक उड़ाएगा। बहरहाल, समाज और देश की छवि को बेहतर करने के उद्देश्य से हमें सामाजिकता और नैतिकता को बढ़ावा देना होगा, बच्चों में उन्हें रचाना-बसाना होगा। हमें समझना होगा कि हमारी भावी पीढ़ी के भविष्य का दारोमदार हमारी ही मानसिकता पर है।