--Advertisement--

ओंकारेश्वर परियोजना की नहरें 8 माह में ही फूटी

ओंकारेश्वर परियाेजना के तहत 8 माह पहले बनी नहरें फूटने लगी है। किसानों ने कहा रबी फसल की सिंचाई के लिए खेतों तक पानी...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:55 AM IST
ओंकारेश्वर परियाेजना के तहत 8 माह पहले बनी नहरें फूटने लगी है। किसानों ने कहा रबी फसल की सिंचाई के लिए खेतों तक पानी नहीं पहुंचा। अब भी सुधार नहीं हुआ तो बारिश में यही पानी परेशानी का कारण बनेगा।

किसान गोलू पंडित, मिश्रीलाल यादव व दिनेश यादव ने बताया भट्यान बुजुर्ग से ससाबड़ क्षेत्र में नहरें फूट रही है। नहरों से सिंचाई की उम्मीद टूटने लगी है। सेवकराम यादव, बद्री पटोदा व शिवराम यादव ने कहा नहर में पानी छोड़ने से पहले ही इसकी गुणवत्ता उजागर हो गई। आनन-फानन में काम करने में गुणवत्ता पर ध्यान नहीं दिया। नहर व सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराने के लिए बार-बार विभाग के अधिकारियों से गुहार लगाई। रबी सीजन में सिंचाई के अभाव में 400 एकड़ में लगी फसलों की शिकायत जनसुनवाई के साथ सीएम हेल्पलाइन पर भी की लेकिन खेतों तक पानी नहीं पहुंचा। बारिश के पहले नहरों की मरम्मत की जाना चाहिए।

परियोजना की माइनर नहर फूट गई।