--Advertisement--

सुबह हवन-पूजन, दोपहर में भंडारे व रात में की महाआरती

हनुमान जयंती शनिवार को शहर में उत्साह के साथ मनाई गई। सुबह मंदिरों में अखंड रामायण पाठ का समापन हुआ। हवन-पूजन और...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:45 AM IST
हनुमान जयंती शनिवार को शहर में उत्साह के साथ मनाई गई। सुबह मंदिरों में अखंड रामायण पाठ का समापन हुआ। हवन-पूजन और आरती के बाद दोपहर में भंडारा हुआ। शहर के प्राचीन श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर में सुबह 5 बजे अखंड पाठ का समापन हुआ। इसके बाद एक घंटे तक भजनों की प्रस्तुति दी गई। सुबह बजे 6 बजे श्री हनुमान की जन्म आरती की गई। इसके बाद हवन 10 बजे तक किया। सुबह 11 बजे भोग आरती कर छप्पन भोग लगाया। दोपहर 1 से 3 बजे तक श्री हनुमान जी का पंचामृत (दूध, दही, घी, शहद, शकर) से वैदिक मंत्रोच्चार द्वारा महाअभिषेक किया। शाम 5.30 बजे विशेष शृंगार आरती की। उत्सव की महाआरती रात 8.30 बजे की गई। इसमें सैकड़ों लोग शामिल हुए।

यहां भी हुए कार्यक्रम - पड़ावा के श्री सिद्धेश्वर हनुमान, घंटाघर पर राम भक्त हनुमान, इंदिरा चौक, रेलवे कॉलोनी, बड़केश्वर हनुमान, पड़ेला हनुमान, रेलवे स्टेशन परिसर, गोविंदेश्वर मंदिर हरिगंज, दुबे कॉलोनी, श्री सिद्धेश्वर संकट मोचन हनुमान मंदिर जानकी नगर, बजरंग चौक, टेकड़ी वाले हनुमान सिहाड़ा रोड सहित अनेक स्थान पर कार्यक्रम हुए।

हनुमान जयंती पर शहर मोघट थाना मंदिर में भंडारा हुआ, यहां भक्तों ने प्रसादी ग्रहण की।

पूरा हनुमान मंदिर में भंडारा

कालमुखी. गांव से 1 किमी दूर जंगल में पूरा नामक स्थान पर प्राचीन हनुमान मंदिर है। इस मंदिर में कोई पुजारी नहीं टिकता। आसपास के खेत मालिक ही मंदिर में सुबह-शाम पूजन -आरती करते हैं। प्रत्येक शनिवार को डोंगरगांव व कालमुखी के श्रद्धालु चोला चढ़ाकर प्रसादी वितरित करते हैं। हनुमान जन्मोत्सव पर भंडारे का आयोजन किया गया।

चोला चढ़ाकर शृंगार किया

जावर | जावर सहित आसपास के गांवों में शनिवार को भगवान हनुमान का जन्मोत्सव उत्साह से मनाया गया। सिहाड़ा के प्राचीन पड़ेला हनुमान मंदिर में पूजन-अभिषेक के बाद चोला चढ़ाकर शृंगार किया गया। बलदी जंगल स्थित खारदा और गिट्‌टी खदान स्थित हनुमान मंदिर में पूजन-हवन के बाद प्रसादी वितरित की गई।