--Advertisement--

सिंधिया समर्थकों ने फोड़े पटाखे, आज यादव गुट मनाएगा खुशी

मुंगावली एवं कोलारस के विधानसभा उप-चुनाव में जीत के बाद जश्न को लेकर कांग्रेस दो गुटों में बंट गई। जीत की जानकारी...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:40 AM IST
मुंगावली एवं कोलारस के विधानसभा उप-चुनाव में जीत के बाद जश्न को लेकर कांग्रेस दो गुटों में बंट गई। जीत की जानकारी पर सिंधिया समर्थकों ने बुधवार रात में ही खुशी मनाई। जबकि कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव के समर्थक गुरुवार शाम 5 बजे होली मिलन के साथ जश्न मनाएंगे।

प्रदेश स्तर पर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव एवं सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का मतभेद उभरकर सामने आया। जीत की सूचना के बाद घंटाघर पर बुधवार रात 8.30 बजे सिंधिया समर्थक परमजीतसिंह नारंग ने कार्यकर्ताओं के साथ पटाखे फोड़े। नारंग एवं कार्यकर्ताओं ने आतिशबाजी के साथ मिठाइयां भी बांटी। उप-चुनाव में जीत से उत्साहित नारंग ने सिंधिया के नेतृत्व में प्रदेश में विधानसभा चुनाव में जीत का दावा किया। हालांकि सिंधिया को कांग्रेस का नेतृत्व नहीं दिए जाने के सवाल नारंग ने हाईकमान के आदेश मानने की बात कही। बुधवार रात 9 बजे इंदिरा चौक पर सिंधिया समर्थक राहुल मेहता ने भी आतिशबाजी की।

प्रमाण पत्र मिलने के बाद तय किया कार्यक्रम

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के समर्थक जिलाध्यक्ष ओंकार पटेल शाम 7 बजे तक खंडवा में रहे। सिंधिया गुट की हलचल की जानकारी लगने पर पटेल चुपके से गांव चले गए। कांग्रेस के नगराध्यक्ष इंदलसिंह पवार ने बताया गांधी भवन में उप-चुनाव में जीत का जश्न गुरुवार को होली मिलन के साथ मनाएंगे। बुधवार को चुनाव में जीत का प्रमाण पत्र मिलने के बाद कार्यक्रम तय किया गया।

जीत का जश्न भी गुटों में- सिंधिया समर्थक परमजीतसिंह नारंग ने कार्यकर्ताओं के साथ घंटाघर पर की आतिशबाजी

मुंगावली एवं कोलारस के विधानसभा उप-चुनाव में जीत के बाद जश्न मनाते कांग्रेसी।

इधर, भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा का हुआ प्रशिक्षण

खंडवा | बुधवार को इंदिरा चौक स्थित भाजपा कार्यालय में पिछड़ा वर्ग मोर्चा का प्रशिक्षण वर्ग हुआ। भाजपा प्रवक्ता सुनील जैन ने बताया प्रथम सत्र की अध्यक्षता प्रदेश कार्यालय मंत्री व पिछड़ा वर्ग मोर्चा खंडवा प्रभारी मोहित चौरसिया ने की। प्रशिक्षण वर्ग में भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा के जिलाध्यक्ष सेवादास पटेल, जिला महामंत्री गोपाल सोनी, अरूण पटेल, नीरज कुशवाह, परमानंद कुशवाह सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता व पदाधिकारी उपस्थित थे।