खंडवा न्यूज़

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Khandwa News
  • News
  • राशन दुकान शुरू करने के लिए ऑनलाइन नहीं हो पाए आवेदन, फिर से बुलाएंगे
--Advertisement--

राशन दुकान शुरू करने के लिए ऑनलाइन नहीं हो पाए आवेदन, फिर से बुलाएंगे

खाली ग्राम पंचायतों में राशन दुकानें शुरू करने के लिए फिर से आवेदन बुलाए जाएंगे। फरवरी में इन पंचायतों के लिए...

Danik Bhaskar

Mar 02, 2018, 03:45 AM IST
खाली ग्राम पंचायतों में राशन दुकानें शुरू करने के लिए फिर से आवेदन बुलाए जाएंगे। फरवरी में इन पंचायतों के लिए आवेदन करने की अंतिम तारीख 24 फरवरी रखी थी। इसके लिए ऑनलाइन आवेदन करना था। राशन दुकान चलाने के इच्छुक लोगों ने आवेदन करना चाहा लेकिन वेबसाइट ही नहीं खुली। शिकायत की तो अब विभाग की ओर से बताया है कि शासन स्तर से समस्या थी, अब इसे दूर करके फिर से आवेदन बुलाए जाएंगे। वेबसाइट पर 110 ग्राम पंचायतों की सूची दी है, जहां राशन दुकानें नहीं हैं।

शासन ने प्रत्येक पंचायत में राशन दुकान शुरू करने की नीति बनाई है। इसे पूरा करने के लिए फरवरी में स्वसहायता समूहों से खाली पंचायतों में दुकान खोलने के लिए आवेदन बुलाए। यह आवेदन आपूर्ति विभाग की वेबसाइट पर ऑनलाइन बुलवाए थे। लोगों ने आवेदन करना चाहा तो नहीं हुए। इसकी शिकायत कलेक्टर अभिषेक सिंह व जिला आपूर्ति अधिकारी से की गई। कांग्रेस नेता व पूर्व पार्षद नारायण नागर ने लिखित शिकायत की। इसमें बताया कि 22 फरवरी से 24 फरवरी तक विभाग का पोर्टल नहीं खुला। इच्छुक लोग आवेदन नहीं कर पाए। अब अफसरों का कहना है कि इसके लिए फिर से आवेदन बुलाए जाएंगे। इसके लिए अलग से कार्यक्रम जारी होगा।

जिले में खाली ग्राम पंचायतें

खंडवा-18, छैगांव माखन-18, पंधाना-28, पुनासा-14, हरसूद-12, बलड़ी-8, खालवा-12

फिर से बुलाए जाएंगे आवेदन


आैर इधर, प्रशिक्षण : मार्च अंत तक सभी कर्मचारी शुरू करेंगे

कर्मचारियों को बताए ई-अटेंडेंस के तरीके

खंडवा | कलेक्टोरेट सभाकक्ष में गुरुवार ई-अटेंडेंस साफ्टवेयर के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया। उन्हें फोन पर साफ्टवेयर अपलोड करने व इससे ई-अटेंडेंस लगाने के तरीके बताए। कलेक्टर ने कहा इसी महीने अंत तक ई-अटेंडेंस की व्यवस्था करें। उन्हें उपस्थिति लगाना भी बताएं।

कलेक्टर के आदेश के मुताबिक सभी विभागों में ई अटेंडेंस की व्यवस्था की जाना है। इसके लिए कलेक्टोरेट सभागार में कर्मचारियों-अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया। उन्हें बताया कि ई अटेंडेंस साफ्टवेयर से ऑनलाइन उपस्थिति कैसे लगाएंगे। कलेक्टर ने सभी विभागीय अफसरों को निर्देश दिए कि वे इस महीने के अंत तक ऑनलाइन उपस्थिति की व्यवस्था कर लें।

अपने विभागीय अफसर कर्मचारियों की ऑनलाइन उपस्थिति के लिए ई-अटेंडेंस सॉफ्टवेयर कर्मचारियों के मोबाइल फोन में इंस्टाल कराएं। ऑनलाइन उपस्थिति शुरू कराएं। कलेक्टर ने बताया कि अगले सोमवार को फिर टीएल बैठक में ई अटेंडेंस साफ्टवेयर के संबंध में प्रशिक्षण दिया जाएगा।

ऑनलाइन हो सकेगी निगरानी

कार्यालयों में कर्मचारी अधिकारियों की आने न आने की निगरानी ऑनलाइन की जा सकेगी। अफसर जरूरत पड़ने पर कर्मचारी उपस्थिति अपने मोबाइल पर देख सकेंगे। इससे कर्मचारियों के समय पर आना व जान तय हो सकेगा। कर्मचारी मनमाने तरीके से नहीं आ जा सकेंगे।

Click to listen..