Hindi News »Madhya Pradesh »Khandwa »News» किसानों ने ‘ताप्ती’ से किया किनारा बोले- पुरानी योजना से नहीं बहकाएं

किसानों ने ‘ताप्ती’ से किया किनारा बोले- पुरानी योजना से नहीं बहकाएं

भास्कर संवाददाता | हरसूद/खालवा हरसूद और खालवा तहसील के 165 गांवों के सैकड़ों किसानों का खालवा में 20 जनवरी से धरना...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:30 PM IST

भास्कर संवाददाता | हरसूद/खालवा

हरसूद और खालवा तहसील के 165 गांवों के सैकड़ों किसानों का खालवा में 20 जनवरी से धरना प्रदर्शन जारी है। इसके 12वें दिन बुधवार को किसानों ने जिला प्रशासन से आए जल संसाधन विभाग के ताप्ती परियोजना के प्रस्ताव से किनारा कर लिया। किसानों ने कहा यह योजना 10 साल पुरानी है। इससे हमें बहकाए नहीं। जब तक खालवा क्षेत्र को इंदिरा सागर परियोजना से पानी देने काे लेकर जिम्मेदार सार्थक आश्वासन नहीं देते तब तक धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। धरना प्रदर्शन को समर्थन देने रोजाना 20-25 गांवों के आदिवासी किसान भी आ रहे हैं।

वर्षा आधारित फसलों पर निर्भर खालवा क्षेत्र के आदिवासी किसानों द्वारा भारतीय किसान संघ के बैनर तले किए जा रहे धरना प्रदर्शन से जनप्रतिनिधियों ने अब तक दूरी बनाए रखी है। सांसद, विधायक, मंत्री जिला पंचायत सदस्य, जनपद अध्यक्ष और सदस्यों सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने उनकी अब तक जानकारी नहीं ली है। इससे किसानोंं में आक्रोश है। जनप्रतिनिधियों का एक धड़ा किसानों की तीन सूत्रीय मांगों को किसानो की मंत्री विरोधी खेमे की पहल बताकर दरकिनार कर रहा है।

धरना प्रदर्शन से क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों की दूरी अब भी बरकरार

हरसूद और खालवा तहसील के 165 गांवों के सैकड़ों किसानों ने मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया।

किसानों को उपज का अधिक दाम दिलाने के प्रयास करेंगे

बुधवार को धरना प्रदर्शन को समर्थन देने मप्र किसान संघ के प्रदेश अध्यक्ष रामभरोस बसौतिया भी आए। उन्होंने उपस्थित तीन हजार से अधिक किसानों से कहा इंदिरा सागर जलाशय से खालवा क्षेत्र को सिंचित करने की मांग लेकर 8 फरवरी को मुख्यमंत्री से चर्चा करेंगे। उन्होंने कर्ज माफी की मांग पर कहा किसानों को उपज के दाम अधिक मिले इसके प्रयास किए जाएंगे। किसान संघ के सुरजीत मिन्हास ने कहा एक दशक से आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र की सिंचाई को लेकर अनदेखी की जा रही है। अब इसके सार्थक निर्णय के आश्वासन पर ही धरना प्रदर्शन समाप्त किया जाएगा। इस दौरान सर्व आदिवासी समाज विकास व सुधार समिति के लच्छू ओंकार, राधेश्याम पटेल, सुयश केल्दे, नाना पगड़ी, सुखराम साल्वे सहित अन्य किसान मौजूद थे।

विधायक, मंत्री हर साल बढ़ा रहे वेतन, किसानों को नहीं मिल रहा लागत मूल्य

भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष धरमचंद पटेल ने कहा किसान भाई विश्वास रखें, हमारे खेतों तक नर्मदा का पानी जरूर आएगा। विधायक और मंत्री अपना वेतन हर वर्ष बढ़ा रहे हैं। लेकिन किसानों को लागत मूल्य नहीं मिल रहा है। हमें हमारा अधिकार मिलना चाहिए।

खालवा क्षेत्र की भूमि सिंचित करना प्रस्तावित

बैतूल क्षेत्र के ढेगना और रंभा जलाशय का सर्वेक्षण प्रारंभ हो चुका है। इस जलाशय में ताप्ती से पानी डम्प किया जाकर खालवा क्षेत्र की 60 हजार हेक्टेयर भूमि सिंचित किया जाना प्रस्तावित है। विभाग की ओर से यह प्रस्ताव संघ के समक्ष रखकर धरना प्रदर्शन समाप्त करने का आग्रह किया है। एसएम चतुर्वेदी, एई जल संसाधन विभाग खंडवा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×