--Advertisement--

सालभर में पति-पत्नी के 23 मामलों में आ गई ‘वो’

सोशल मीडिया की गतिविधियां पारिवारिक कलह का कारण बन रही है। खरगोन में पति-प|ी के बीच ‘वो’ के ऐसे 23 मामले सामने आए हैं।...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:55 AM IST
सोशल मीडिया की गतिविधियां पारिवारिक कलह का कारण बन रही है। खरगोन में पति-प|ी के बीच ‘वो’ के ऐसे 23 मामले सामने आए हैं। इसे लेकर विवाहित दंपतियों में बड़ी खटपट चल रही है। इसमें एक शिक्षक दंपती भी शामिल हैं। ये मामले सभी सुलह के लिए परिवार परामर्श केंद्र तक पहुंचे हैं।

काउंसलर सुलह करा रहे हैं। काउंसलर पूजा परसाई बताती हैं विवाह असामंजस्य व प्रेम प्रसंग के अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 तक कुल 71 मामले आ गए हैं। सोशल मीडिया का गलत उपयोग भी हो रहा है। देररात तक चेटिंग करना, मोबाइल पर बगैर किसी ठोस कारण के लंबी बात करने से अपने जीवन साथी को शक हो रहा है। शिकायत लेकर वे हमारे पास आ रहे हैं।

सोशल मीडिया दंपतियों में करा रहा विवाद, 11 माह में विवाह असामंजस्य के 71 मामले आए

दो रोचक मामले जिससे बनी दूरियां खत्म हुई

1 : शिक्षक दंपती में ‘वो’ के आने से मची उथल-पुथल

खरगोन के आशाधाम कॉलोनी निवासी शिक्षक दंपती के जीवन में ‘वो’ के प्रवेश होने से उथल-पुथल मच गई। शिक्षक पति को एक अन्य महिला पसंद आ गई। वाट्सएप पर रोजाना की चेटिंग को प|ी ने पति के माेबाइल को चेक कर पकड़ा। इसके बाद वह परिवार परामर्श केंद्र पहुंची। यहां पर तीन काउंसिलिंग के बाद मामला सुलझ गया। शिक्षक ने धोखा न देने की सौगंध खाकर वैवाहिक जीवन बचाया।

2 : पति पर शक करने वाली का ही निकला चक्कर

कालादेवल क्षेत्र के एक मामले में महिला पति पर शक कर रही थी। उसने परिवार परामर्श केंद्र में शिकायत में पति के किसी दूसरी महिला से चक्कर की शिकायत दर्ज कराते कहा- मैं उनके साथ नहीं रह सकती। काउंसलर पूजा परसाई व इंदिरा पटेल ने जांच की तो प|ी का ही पुराना प्रेम सामने आ गया। वह चेटिंग करती थी। शिकायत से दबाव बना रही थी।

पति-प|ी की काउंसिल करते परामर्श केंद्र में परामर्शदात्री।

अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 तक के मामले

244 परिवार परामर्श केंद्र तक

103 में हुए समझौते

48 विवाह असामंजस्य के

23 प्रेम प्रसंग के