--Advertisement--

समय पर नहीं पहुंचे डॉक्टर, मरीज ढूंढने में हुई परेशानी

डॉ. शर्मा के इंतजार में बैठे मरीज। स्थान : डायबिटीज क्लीनिक, समय : सुबह 10.30 बजे शनिवार सुबह 10.30 बजे डायबिटीज...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:55 AM IST
डॉ. शर्मा के इंतजार में बैठे मरीज।

स्थान : डायबिटीज क्लीनिक, समय : सुबह 10.30 बजे

शनिवार सुबह 10.30 बजे डायबिटीज क्लीनिक में डॉ. चिकित्सक डॉ. आशीष शर्मा का चेंबर खाली था। मरीज डॉक्टर का इंतजार करते-करते जमीन पर बैठ गए। अपना उपचार कराने के लिए सुबह 8 बजे से आए मरीजों को सुबह 10.30 बजे तक डॉक्टर नहीं मिले। जबकि डॉक्टर का अस्पताल पहुंचने का समय सुबह 8 बजे से था। उपचार के लिए आई जरीना बी ने बताया कि सुबह से हम यहां पर डॉक्टर का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन उनके नहीं आने से यहां पर परेशान हुए। जिला अस्पताल में यह पहली बार नहीं इससे भी एेसा ही हुआ है।

गार्ड से मरीज के परिजनों ने विवाद किया।

स्थान : मेटरनिटी वार्ड का गेट, समय : सुबह 10.45 बजे

जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड के गेट पर मरीजों के परिजनों को अनुमति पास जारी होते हैं। इसके बाद ही उन्हें प्रवेश दिया जा रहा है। गेट पर गार्ड की तैनाती कर दी है। शनिवार सुबह 10.45 बजे मरीजों से मिलने आए परिजनों को गार्ड ने रोका तो कई लोगांे ने गुस्सा किया। कई लोगांे ने गार्ड से हुज्जत भी की। हालांकि गार्ड ने उन्हें ही प्रवेश दिया जिनके पास अस्पताल के पास थे। परिजन शंकर पटेल ने कहा मैं खाना लेकर आया था, मरीज को देना जरूरी है। मेरे पास पास नहीं होने पर परेशानी हुई। प्रबंधन ने मेटरनिटी वार्ड में पुरुषों के प्रवेश पर प्रतिबंध को सख्ती से लागू कर दिया है।