--Advertisement--

डालर चना की लगाई 6701 रु. बोली, 8500 रु.की थी उम्मीद, कुछ किसान वापस ले गए

खरगोन की अनाज मंडी में पहली बार डालर चने की खरीदी शुरू हुई। बुधवार को सुबह 11.10 बजे मंडी अध्यक्ष एड़िया देपाले,...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:50 AM IST
खरगोन की अनाज मंडी में पहली बार डालर चने की खरीदी शुरू हुई। बुधवार को सुबह 11.10 बजे मंडी अध्यक्ष एड़िया देपाले, उपाध्यक्ष छोटू कुशवाह, सचिव संजीव श्रीवास्तव, व्यापारी व किसानों की मौजूदगी में पूजन हुआ। मेनगांव के दिलीप महिमाराम पाटीदार की उपज का सभी ने पूजन किया। उसके बाद मुहूर्त की बोली लगाई। सबसे ऊंची बोली अनाज व्यापारी शांतिलाल ने 6701 रुपए क्विंटल की लगाई। किसान ने बताया 10 एकड़ में फसल लगाई है। उम्मीद थी कि मुहूर्त में 8500 रुपए क्विंटल भाव मिलेंगे। कुछ किसान उपज वापस भी ले गए। व्यापारी बाजार की स्थिति के हिसाब से भाव को बेहतर बता रहे हैं। पहले दिन किसान अनाज मंडी में बैलगाड़ियों सहित 55 वाहनों में 866 बोरी डालर चना लेकर आए। 4805 से 6701 तक भाव रहे। इस दौरान मनजीतसिंह चावला, मंडी अनाज व्यापारी संघ अध्यक्ष बाबू जैन सहित कई कारोबारी मौजूद थे।

दिलीप पाटीदार के डालर चना उपज की पूजा कर शुरू हुई नीलामी।

मुहूर्त में बोली उम्मीद से कम

मेनगांव के कैलाश कुशवाह ने बताया 6300 रुपए क्विंटल बोली लगाई। यह भाव कम है। मुहूर्त में अच्छे भाव की उम्मीद थी। व्यापारी चने में नमी होना कह रहे हैं।

भाव मिलेगा तब बेचूंगा

बनिहार के किसान श्रीराम पाटीदार के चने की 6100 रु. ऊंची बोली लगी। वे निराश हो गए। व्यापारियों ने बताया चने में नमी के साथ मिक्स है। वे वापस ले गए। बोले- भाव मिलेगा तब बेचूंगा।

गेहूं व चना रकबा (हेक्टेयर)

वर्ष गेहूं चना

12-13 89632 13215

13-14 115380 16547

14-15 147983 20727

15-16 141313 29269

16-17 150000 82269

17-18 139000 90000

चने की आवक (क्विंटल में)

13-14 1500-4252 8226

14-15 2056-3350 11123

15-16 2956-5250 19792

16-17 3400-10100 16577

(मंडी के मुताबिक)

पिछले साल से गिरे हैं 40 फीसदी भाव

भारतीय किसान संघ प्रतिनिधियों का कहना है पिछले साल 11 हजार रु. भाव मिले थे। 40% भाव गिरा है। जिलाध्यक्ष श्यामसिंह पंवार ने कहा डालर चने का रकबा बढ़ रहा है। 15 हजार रु. क्विंटल का बीज लेकर बोया है। सरकार को भावांतर में इसे भी शामिल करना चाहिए।

इधर, 62 साल पार 11 तुलावटी भी कर रहे काम

खरगोन |
अनाज मंडी में 62 साल की उम्र पार कर चुके 12 तुलावटी काम कर रहे हैं। मंडी प्रशासन आगे भी उनके ही परिवारों को तुलावटी के लाइसेंस जारी कर रहा है हम्मालों के नहीं। उनके लाइसेंस नवीनीकरण व उम्र की जांच कर कार्रवाई होना चाहिए। अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण पाल ने बुधवार को मंडी अध्यक्ष एडिया देपाले व सचिव संजीव श्रीवास्तव को शिकायत की। उन्होंने दस्तावेज दिखाते कहा 12 से ज्यादा तुलावटी अधिक उम्र में काम कर रहे हैं। जबकि पांच हम्मालों के अधिक आयु का बताकर लाइसेंस नवीनीकरण नहीं हो रहे हैं। कुछ ऐसे तुलावटी हैं, जिनका परिवार एक लाइसेंस पर काम में लगा है। हम्मालों के कॉलेज की पढ़ाई कर चुके बच्चों को तुलावटी लाइसेंस नहीं बनाए जा रहे हैं। हम्मालों के शिक्षित बच्चों को लाइसेंस नहीं दिए जा रहे हैं। सचिव ने नियमानुसार कार्रवाई का भरोसा दिलाया है।