• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Khandwa News
  • Khargon
  • माल परिवहन में ई-वे बिल जरूरी, पुरानी दरों पर होगा पंजीयन, आज से बाजार में दिखेगा असर
--Advertisement--

माल परिवहन में ई-वे बिल जरूरी, पुरानी दरों पर होगा पंजीयन, आज से बाजार में दिखेगा असर

वित्तीय वर्ष : कई बदलाव शुरू भास्कर संवाददाता | खरगोन रविवार से नया वित्तीय वर्ष शुरू हो गया। कई बड़े बदलाव साथ...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:50 AM IST
वित्तीय वर्ष : कई बदलाव शुरू

भास्कर संवाददाता | खरगोन

रविवार से नया वित्तीय वर्ष शुरू हो गया। कई बड़े बदलाव साथ लेकर। रजिस्ट्री में कोई फेरबदल नहीं किया गया। पुरानी दर पर ही पंजीयन होगा। इसके अलावा हलके वाहनों का थर्ड पार्टी बीमा सस्ता जबकि भारी वाहनों का बीमा 26 फीसदी तक महंगा हो गया। 50 हजार से ज्यादा माल पर रविवार से ई वे बिल जरूरी कर दिया। एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश में माल ले जाने पर टैक्स इनवाइस के साथ ही ई वे बिल जरूरी होगा। जिले में 12 हजार व्यापारी रजिस्टर्ड हैं। यदि ये प्रदेश से बाहर माल भेजते हैं तो सभी के लिए जरूरी होगा। माल, कीमत, टैक्स आदि का पूरा ब्यौरा होगा। 1 अप्रैल को रविवार का बाजार बंद रहने से बदलाव नजर नहीं आया। 2 अप्रैल से इसका प्रभाव नजर आएगा।

हलके वाहन 25 फीसदी सस्ते तो भारी वाहन महंगे- इरडा ने कार व बाइक के थर्ड पार्टी प्रीमियम में हलके वाहनों में कमी व भारी वाहनों में बढ़ोतरी की है। नेशनल इंश्योरेंस के प्रशासनिक अधिकारी राजेन्द्र के. लाड़ ने बताया थर्ड पार्टी क्लेम के आंकड़ों के आधार पर प्रीमियम तय होती है। हलके वाहन सस्ते जबकि भारी वाहनों की प्रीमियम 26 फीसदी तक महंगी हो गई। 1000 सीसी से कम प्राइवेट कार व 75 सीसी से कम बाइक पर बीमा प्रीमियम 25 फीसदी तक कम हुआ है। जबकि कमर्शियल वाहन ट्रक, ट्रैक्टर की बीमा प्रीमियम महंगी हुई है। यह 7500-40 हजार किलो के ऊपर के लिए अलग-अलग है। 350 सीसी बाइक 1019 रुपए से बढ़ाकर 2323 रुपए कर दिया।

पुरानी गाइडलाइन पर ही होंगी रजिस्ट्री-

कलेक्टर गाइडलाइन बनाने की धारा धारा-47 (क) को विलोपित कर दिया है। अब पंजीयन विभाग द्वारा इसकी जगह पर बाजार मूल्य निर्धारित करने के लिए नए नियम लाए जा रहे हैं। जब तक इन नियमों का प्रकाशन नहीं हो जाता है तब तक पुरानी कलेक्टर गाइडलाइन की दरों पर ही रजिस्ट्री होती रहेंगी। 1 अप्रैल से 20 फीसदी दामों में बढ़ोतरी का प्रापर्टी खरीदारों में डर खत्म हो गया। पंजीयन कार्यालयों को इस संबंध में सूचना जारी की गई है।