नर्मदा जयंती / 25 साल पहले पोडवाल के गायन से शुरू हुआ था निमाड़ उत्सव, नदी उत्सव में गाया, मन मेरा मंदिर.. शिव मेरी पूजा



Anuradha Podwal presented bhajans in Nimad festival
X
Anuradha Podwal presented bhajans in Nimad festival

  • जब उत्सव शुरुआत हुई थी तब भी मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ थीं

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 10:55 AM IST

मंडलेश्वर.  मप्र लोक कला व बोली विकास अकादमी मप्र संस्कृति परिषद द्वारा नदी उत्सव कार्यक्रम शुरुआत पर मां नर्मदा की महाआरती व दीपदान किया गया। नर्मदाष्टक पर नटेश्वर नृत्य संस्थान के संजय महाजन ने दल के 25 कलाकार के साथ नृत्य की प्रस्तुति दी। रात करीब 9.30 बजे तक गायक अनुराधा पौडवाल की प्रस्तुति नहीं होने पर लोग परेशान होते नजर आए। इसके चलते आसपास के ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले लोग वाहनों में बैठकर लौट गए। रात करीब 9:50 बजे गायिका अनुराधा पौडवाल प्रस्तुति देने के लिए मंच पर पहुंची। उन्होंने मन मेरा मंदिर शिव मेरी पूजा व गायत्री मंत्र की प्रस्तुति देकर कार्यक्रम की शुरुआत की।


 

डॉ. साधौ ने कहा- नर्मदा नदी से ही हमें संस्कार मिलते हैं : नगर में नर्मदा जयंती पर नदी महोत्सव की शुरुआत रात करीब 8 बजे की गई। केबिनेट मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ ने दीप प्रज्ज्वलन किया। इस अवसर पर खरगोन विधायक रवि जोशी और सेंधवा विधायक ग्यारसीलाल रावत व अफसर मंच पर मौजूद थे। डॉ. साधौ ने कहा- मां नर्मदाजी की असीम कृपा से हम यहां तक पहुंचे हैं। नर्मदाजी से हमें संस्कार मिलते हैं। नदी उत्सव से मैंने मंडलेश्वर को ये नई सुविधा दी है। आज इसकी शुरुआत भी अनुराधा पौडवाल कर रही है। इन्होंने 25 वर्ष पूर्व महेश्वर में निमाड़ उत्सव की शुरुआत की थी। इसके पूर्व मंत्री ने रात्रि 8 बजे कार्यक्रम में पहुंचकर नर्मदा आरती व पुष्पांजलि में भाग लिया।

 

ी


मंच की व्यवस्था को लेकर चली चर्चाएं : मंच के स्थान के चयन को लेकर जिला प्रशासन व संस्कृति विभाग में कशमकश चलती रही। इस संबंध में संस्कृति विभाग के अशोक मिश्रा ने बताया संस्कृति विभाग जो कार्यक्रम करता है। उसमें कार्यक्रम स्थल से लेकर सारी व्यवस्थाएं जिला प्रशासन करता है। हमारे पास कर्मचारियों की कमी होती है। इससे यह व्यवस्था जिला प्रशासन करता है। इस संबंध में कलेक्टर ने व्यवस्था को देखने के बाद मंच की स्थिति को लेकर नाराजगी जताई थी। कार्यक्रम का आयोजक कौन था यह चर्चा लोगों में चलती रही। जानकारी के अनुसार आगामी वर्ष में यह उत्सव दो दिनी होगा। इसमें पहले दिन निमाड़ के प्रचलित कार्यक्रमाें व संस्थाओं को अवसर दिया जाएगा। दूसरे दिन बाहरी कलाकारों के कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। आगामी बजट में कार्यक्रम को शामिल किया जाएगा। इससे यह कार्यक्रम निरंतर जारी रहे।
 

ह

 

COMMENT