--Advertisement--

हादसा / चूल्हे की नली निकलने से घर में लगी आग, सिलेंडर फटते ही 4 मकान व 9 पावरलूम बीम जले, बुझाने में 2 मकान ढहे



मकानों और पावरलूमों में आग लगने के बाद दूर-दूर तक धुआं उठता दिखाई दिया। मकानों और पावरलूमों में आग लगने के बाद दूर-दूर तक धुआं उठता दिखाई दिया।
X
मकानों और पावरलूमों में आग लगने के बाद दूर-दूर तक धुआं उठता दिखाई दिया।मकानों और पावरलूमों में आग लगने के बाद दूर-दूर तक धुआं उठता दिखाई दिया।

  • छठे दिन में दूसरी बड़ी घटना 5 दमकल और 15 टैंकर पानी चारों ओर छींटा, तब जाकर दो घंटे में पाया आग पर काबू
  • अप्रशिक्षित कर्मचारियों की वजह से असफल हुए आग बुझाने में

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 11:21 AM IST

बुरहानपुर. लोहारमंडी क्षेत्र की संकरी गलियाें के बीच शनिवार देर शाम घरेलू गैस सिलेंडर में आग लगने से आसपास के पांच मकान अंदर ही अंदर खाक हो गए। इसमें नीचे कारखाने में चल रहे 9 पावरलूम बीम (धागे के बड़े रोल) के साथ जल गए। देर रात तक चारों परिवार के लोग नुकसान का आकलन नहीं कर पाए। छह दिन में यह दूसरी बड़ी आगजनी की घटना हुई। 8 अक्टूबर को पाकीजा में आग लगी थी।

उज्ज्वला गैस कनेक्शन लगाया था

  1. शनिवार को अल्ताफ के घर में उज्ज्वला गैस कनेक्शन लगाया था, जिसे जलाने के लिए घर की महिला ने माचिस की तीली सुलगाई। चूल्हे पर लगाते ही कुछ देर में चूल्हे से गैस नली निकल गई और प्रेशर से आग पूरे घर में फैलने लगी। आग भड़कती देख रईसा बानो चीख-पुकार मचाते हुए नाती और बहू के साथ जान बचाने घर से बाहर भागी।

    • आग लगी उस समय घर के पुरुष पावरलूम चला रहे थे तो कुछ रातपाली कर घर में सो रहे थे। नाक में धुएं की धांस आते ही नींद खुली तो आग भड़की देख सभी घर से बाहर निकले। कुछ ही देर में घर में रखा गैस सिलेंडर फटा और आग के विकराल होते ही आसपास के अन्य तीन मकान भी धधक उठे। इसमें गजनफर अब्बास, शाहिद हुसैन, साजिद हुसैन, रईस हुसैन का भी मकान जल उठा।
    • नगर निगम से आधे घंटे बाद दमकल आग को काबू करने पहुंचा। अप्रशिक्षित कर्मियों की वजह से असफल साबित हुए। ये देख क्षेत्रवासियों का निगम व्यवस्था पर गुस्सा फूट पड़ा। किसी तरह नोजल चालू कराया और लोगों ने पानी छींटना शुरू किया लेकिन आग पर काबू नहीं पा सके। जैसे-जैसे समय बीतता गया, आग बढ़ती गई और फिर पूरे मकान धधकने लगे। आग बुझाते समय पानी में दीवारों के गिरने से दो घर धराशायी हो गए। पुलिस ने डंडे दिखाकर भीड़ को तितर-बितर किया। इस बीच सीएसपी ने मौके पर पहुंचकर लोगों को शांत किया।
    • निगमायुक्त पवनसिंह भी मौके पर पहुंचे लेकिन अप्रशिक्षित कर्मियों के कारण कुछ नहीं कर पाए। डेढ़ घंटे बाद महापौर अनिल भोसले भी आए, उन्होंने क्षेत्रवासियों को ढांढस देकर टैंकर पर टैंकर बुलवाए। करीब 25 दमकल और 15 टैंकर पानी चारों ओर छींटा, तब जाकर शाम 7.30 बजे आग पर काबू किया। आगे बुझाते समय टीन से गिरकर लोहारमंडी पार्षद प्रतिनिधि अमजद खान का हाथ फ्रेक्चर हो गया।
    • रईसा बानो ने कहा- घर में बहू और नाती सोया हुआ था। मैं सुविधाघर से लौटकर आई तो देखा घर में आग जल रही थी। मैंने चीख-पुकार लगाकर बहू को उठाया और नाती के साथ घर से भागी। शोहर अल्ताफ को भी पावरलूम कारखाने से बाहर किया। कुछ ही देर में घर में रखा गैस सिलेंडर भी फट गया। धमाका सुनकर मेरी तो आवाज ही बंद हो गई। अल्लाह का शुक्र है कि सब बच गए लेकिन हम तो अब बेघर हो गए।

    दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी हैं सब। जितना समझ आता उतना करते हैं। कैसे कह सकते हैं प्रशिक्षित नहीं है। इसी गाड़ी पर प्रशिक्षण लिया है। जो अब तक 3 जगह आग को काबू किए हैं।

    पवनसिंह, आयुक्त नगर निगम

    मैंने फोन किया उसके आधे घंटे बाद दमकल पहुंचे। उसमें भी प्रशिक्षित कर्मचारी नहीं होने से समय पर आग बुझा नहीं पाए। हम अब सोमवार का इंतजार कर रहे हैं। निगम जाकर अपना विरोध दर्ज कराएंगे।

    फहीम हाशमी, पार्षद प्रतिनिधि लोहारमंडी

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..