khandwa mp news: बेटी को अंतरराष्ट्रीय पहलवान बनाने के लिए ट्रेन में चना बेचता है पिता, दिनभर की कमाई शाम को उसकी डाइट पर कर देते हैं खर्च / khandwa mp news: बेटी को अंतरराष्ट्रीय पहलवान बनाने के लिए ट्रेन में चना बेचता है पिता, दिनभर की कमाई शाम को उसकी डाइट पर कर देते हैं खर्च

khandwa mp news: पिता का बचपन से सपना था कि देश के लिए खेलूं, यह पूरा नहीं हुआ तो बेटी को कुश्ती में उतारा

Bhaskar News

Feb 11, 2019, 01:36 PM IST
khandwa mp news Success Story of Wrestler samia bano

खंडवा ( khandwa mp news)। हरियाणा की पहलवान बहनें गीता और बबीता फोगाट की तरह ही अपनी बेटी को खिलाड़ी बनाने के लिए एक पिता मैदान में उतर गए हैं। इसके लिए वे हर कोशिश कर रहे हैं। ट्रेन में चने बेचकर उससे होने वाली आमदनी का एक हिस्सा बेटी की खुराक पर खर्च कर रहे हैं। यह पहलवान है सामिया बानो। उनके पिता सईउद्दीन तमाम विषम परिस्थितियों के बावजूद वे बेटियों को नेशनल चैंपियन बनाना चाहते हैं। इसके अलावा वे अपनी एक और बेटी व बेटे को भी उच्च शिक्षा दिलवा रहे हैं। वे कहते हैं कि मेरा भी बचपन से सपना था कि मैं देश के लिए खेलूं, लेकिन घर की परिस्थितियों के कारण यह सपना पूरा नहीं कर पाया। लेकिन मैं अब यह सपना बेटी सामिया के माध्यम से पूरा करना चाहता हूं।

पिता ने कहा- मुझे पता है, बेटी जरूर अंतरराष्ट्रीय पहलवान बनेगी...


शहर के बड़ा अवार में रहने वाले सईऊद्दीन दिनभर ट्रेन में चने बेचते हैं। कमाई हुई राशि शाम को बेटी की फिटनेस और डाइट पर खर्च कर देते हैं। आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली सामिया ने 2015 से कुश्ती लड़ना शुरू किया। अब तक वह स्टेट, मुख्यमंत्री कप, इंदौर जिला केसरी भी रही हैं। नेशनल ट्रेडिशनल भी खेल चुकी है। सईउद्दीन ने बताया परिवार में मां ने विरोध कर कहा कि क्या अब बेटी कुश्ती लड़ेगी, समाज के लोगों ने भी तंज कसा, लेकिन मैं बेटी को सपोर्ट कर रहा हूं। मुझे पता है मेरी बेटी अंतरराष्ट्रीय पहलवान जरूर बनेगी।


एक ही सपना : बेटी कुश्ती में देश का नाम रोशन करे


एक बेटी इंदौर से एमबीए कर रही है तो बेटा 10वीं पढ़ रहा है। ट्रेन में चने बेचने के दौरान मैंने अप-डाउन करने वाली लड़कियों को देखा तो बेटी को पढ़ाने का मन बनाया। बेटे को क्रिकेट एकेडमी में ट्रेनिंग दिला रहा हूं। अब एक ही सपना है कि बेटी गीता-बबीता फोगाट की तरह कुश्ती में देश का नाम रोशन करें।


शाबाश सामिया : जिद कर मैदान में उतरी, ट्रायल में हो गई सिलेक्ट


सईऊद्दीन ने बताया- बोरगांव में चल रही कुश्ती के दौरान एक लड़की मैदान में कुश्ती लड़ रही थी और मैं बेटी सामिया को कुश्ती दिखाने ले गया था। जब उसने देखा और मैदान में उतरने की जिद की तो मैंने ही मना कर दिया। इसके बावजूद उसकी जिद पर वह मैदान में उतरी और कुश्ती लड़ी, लेकिन हार गई। इसके बाद ट्रायल हुआ और भोपाल एकेडमी में सिलेक्ट हो गई। एक साल दिल्ली में रही।

X
khandwa mp news Success Story of Wrestler samia bano
COMMENT