• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Khandwa
  • News
  • नावड़ाटौड़ी और सायता में शराब की बिक्री बंद नहीं हुई तो करेंगे आंदोलन- महिलाएं
--Advertisement--

नावड़ाटौड़ी और सायता में शराब की बिक्री बंद नहीं हुई तो करेंगे आंदोलन- महिलाएं

नर्मदा किनारे नावड़ाटौड़ी व सायता में अवैध शराब बिक्री के विरोध में महिलाओं ने मोर्चा खोला। महिलाएं तहसील कार्यालय...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 04:55 AM IST
नावड़ाटौड़ी और सायता में शराब की बिक्री बंद नहीं हुई तो करेंगे आंदोलन- महिलाएं
नर्मदा किनारे नावड़ाटौड़ी व सायता में अवैध शराब बिक्री के विरोध में महिलाओं ने मोर्चा खोला। महिलाएं तहसील कार्यालय पहुंचीं। 20 मिनट तक नारेबाजी कर गांव से इस सामाजिक बुराई को बंद कराने के लिए प्रशासन को 4 दिन का अल्टीमेटम दिया। शराब की बिक्री बंद नहीं होने पर जिला स्तर पर धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी। महिलाओं के गुस्से को देखकर तहसीलदार सतीश वर्मा ने पुलिस को कार्रवाई के लिए कहा। बाद में महिलाओं को आश्वासन दिया यदि पुलिस दो दिन में कार्रवाई नहीं करती तो मैं खुद छापामार कार्रवाई करूंगा।

सरपंच सुनीता केवट, बसूबाई, मीराबाई, सकुबाई, नीलूबाई, रेखा, सारिका हीरामणि आदि ने पुलिस व आबकारी विभाग पर शराब व्यवसायियों को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान महिलाओं के उत्थान के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। नर्मदा किनारे शराब बिक्री नहीं करने की बात कह रहे हैं। लेकिन गांव में जगह-जगह शराब बिक रही है। शराब पीने वाले लोगों के परिवारों में कलह हो रहा है। पति-प|ी के बीच आए दिन हाथापाई की स्थिति निर्मित हो रही है। इस प्रकार से महिलाओं ने तहसीलदार सतीश वर्मा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर कहा पुलिस व आबकारी विभाग नर्मदा किनारे सायता व नावड़ाटौड़ी में बिक रही शराब को रोकने में असफल साबित हो रहा है।

अवैध शराब िबक्री के िवरोध में महिलाओं ने िकया आंदोलन।

भास्कर संवाददाता | कसरावद

नर्मदा किनारे नावड़ाटौड़ी व सायता में अवैध शराब बिक्री के विरोध में महिलाओं ने मोर्चा खोला। महिलाएं तहसील कार्यालय पहुंचीं। 20 मिनट तक नारेबाजी कर गांव से इस सामाजिक बुराई को बंद कराने के लिए प्रशासन को 4 दिन का अल्टीमेटम दिया। शराब की बिक्री बंद नहीं होने पर जिला स्तर पर धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी। महिलाओं के गुस्से को देखकर तहसीलदार सतीश वर्मा ने पुलिस को कार्रवाई के लिए कहा। बाद में महिलाओं को आश्वासन दिया यदि पुलिस दो दिन में कार्रवाई नहीं करती तो मैं खुद छापामार कार्रवाई करूंगा।

सरपंच सुनीता केवट, बसूबाई, मीराबाई, सकुबाई, नीलूबाई, रेखा, सारिका हीरामणि आदि ने पुलिस व आबकारी विभाग पर शराब व्यवसायियों को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान महिलाओं के उत्थान के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। नर्मदा किनारे शराब बिक्री नहीं करने की बात कह रहे हैं। लेकिन गांव में जगह-जगह शराब बिक रही है। शराब पीने वाले लोगों के परिवारों में कलह हो रहा है। पति-प|ी के बीच आए दिन हाथापाई की स्थिति निर्मित हो रही है। इस प्रकार से महिलाओं ने तहसीलदार सतीश वर्मा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर कहा पुलिस व आबकारी विभाग नर्मदा किनारे सायता व नावड़ाटौड़ी में बिक रही शराब को रोकने में असफल साबित हो रहा है।

दल गठित किए हैं


शहर में भी खुलेआम बिक्री

नगर में वार्ड 1, 2, 3, 4, 5 व 6 में भी बेरोकटोक शराब की बिक्री हो रही है। रहवासी इलाकों में दुकानें संचालित होने के बाद भी पुलिस व आबकारी विभाग कार्रवाई नहीं कर रहा है। लोगों ने कहा शिकायत पर भी कार्रवाई नहीं की जाती। इसलिए कई लोग शिकायत से दूर ही रहते हैं।

पुलिस को मोबाइल फोन पर कार्रवाई के निर्देश

महिलाओं की समस्याओं को देखते हुए तहसीलदार ने थाना प्रभारी सौरव बाथम को मोबाइल से अवैध शराब व्यवसायियों पर सख्त कार्रवाई करने व प्रकरण बनाने के निर्देश दिए। पुलिस कार्रवाई के आश्वासन के बाद भी महिलाएं नहीं मानी तो आखिर में तहसीलदार ने कहा यदि पुलिस शराबबंदी कराने में नाकाम होती है तो मैं खुद गांव में आकर छापामार कार्रवाई करूंगा।

X
नावड़ाटौड़ी और सायता में शराब की बिक्री बंद नहीं हुई तो करेंगे आंदोलन- महिलाएं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..