Hindi News »Madhya Pradesh »Khandwa »News» मप्र में पंजीकृत किसानों के आधार पर बनाएं ई-उपार्जन केंद्र

मप्र में पंजीकृत किसानों के आधार पर बनाएं ई-उपार्जन केंद्र

मुख्यमंत्री ने रबी उपार्जन के तहत चना, मसूर और सरसों के उपार्जन कार्य की समीक्षा की एग्रो भास्कर | खंडवा ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 03:45 AM IST

मुख्यमंत्री ने रबी उपार्जन के तहत चना, मसूर और सरसों के उपार्जन कार्य की समीक्षा की

एग्रो भास्कर | खंडवा

मध्यप्रदेश में समर्थन मूल्य पर चना, मसूर और सरसों की खरीदी सरकार कर रही है। मुख्यमंत्री ने खरीदी केंद्रों का युक्तियुक्तकरण करने के निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा समर्थन मूल्य पर बिक्री के लिए पंजीकृत किसानों की संख्या के आधार पर खरीदी केंद्रों की जरूरत का चिह्नांकन कर खरीदी केंद्रों का निर्धारण करें।

मुख्यमंत्री ने कहा किसान चना, मसूर और सरसों की गुणवत्तापूर्ण फसलें खरीदी केंद्रों पर लाए। फसलों की उत्पादकता के निर्धारण स्थानीय और व्यवहारिक वास्तविकताओं के अनुसार करें, ताकि किसानों की उत्पादित फसल की खरीदी हो सके। कार्य की गहन निगरानी की जाए ताकि खरीदारी में गड़बड़ी न हो। चना, मसूर और सरसों के लिए 14 लाख 1 हजार 481 किसानों ने पंजीयन कराया है। खरीदी 10 अप्रैल से शुरू हो गई है, जो 31 मई तक चलेगी। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने अधिकािरयों को स्पष्ट निर्देशित किया कि वे खरीदी केंद्र पर किसानों की सहुलियत को देखते हुए काम करें। यदि किसी भी प्रकार की कोताही बरती तो संबंधित अफसर पर कार्रवाई की जाएगी।

गेहूं खरीदी के लिए मध्यप्रदेश में 2978 केंद्र स्थापित किए

गेहूं खरीदी की समीक्षा करते समय उन्होंने वारदानों की आवश्यकता के अग्रिम आंकलन के आधार पर उनकी उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा। गेहूं उपार्जन के लिए मध्यप्रदेश में 2978 केंद्रों का गठन किया है। कुल 15 लाख 35 हजार 962 किसानों का पंजीयन हुआ है। खरीदी के संबंध में अब तक 3 लाख 9 हजार 943 किसानों को एसएमएस भेजे जा चुके हैं। इनमें से 1 लाख 36 हजार 575 किसानों से छह लाख 52 हजार 60 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी हाे चुकी है। अब तक 801 करोड़ 12 लाख रुपए का भुगतान हो चुका है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |
Web Title: मप्र में पंजीकृत किसानों के आधार पर बनाएं ई-उपार्जन केंद्र
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×