खंडवा-बीड़ के बीच चल सकती है मेमू ट्रेन

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
संत सिंगाजी ताप परियोजना का मुख्य कंपनी मप्र पावर जनरेटिंग कंपनी (एमपीपीजीसीएल) ने रेलवे को सुरगांव बंजारी से बीड़ तक दूसरा ट्रैक बनाने का प्रस्ताव दिया है। रेलवे इस पर विचार कर रहा है। दोहरा ट्रैक होने से कुछ यात्री ट्रेनें भी चलाई जा सकती हैं। बीड़ के लिए एक अन्य योजना पर भी काम किया जा रहा है। शटल की जगह मेमू (मेनलाइन इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट) ट्रेन चलाने पर विचार चल रहा है। सब कुछ ठीक रहा तो 2019 के अंत तक यह ट्रेन यहां चलने लगेगी। दोनों कामों के प्रस्ताव रेल मंत्रालय को भेजे जा चुके हैं।

सुरगांव बंजारी से सिंगाजी परियोजना तक रेल ट्रैक का निरीक्षण करने आए भोपाल मंडल रेल प्रबंधक शोभन चौधरी ने यह बात कही। उन्होंने बताया एमपीपीजीसीएल ने सुरगांव से बीड़ तक सिंगल ट्रैक को डबल करने का प्रस्ताव दिया है। निरीक्षण के दौरान एमपीपीजीसीएल के ईडी बीएल नेवल, अतिरिक्त अभियंता एके शर्मा, रेलवे के भोपाल डिविजन के इंजीनियर व अन्य अफसर मौजूद थे।

डीआरएम भोपाल चौधरी ने अफसरों के साथ बीड़ रेलवे गेट का निरीक्षण किया।

2019 अंत तक : मेमू ट्रेन से बढ़ेंगे फेरे और गति
डीआरएम चौधरी ने बताया शटल ट्रेन को भी मेमू ट्रेन का रूप देने का प्रयास किया जा रहा है। ट्रेन के दोनों ओर इंजन होने से पलटाने का समय बचेगा। समय बचेगा तो ट्रेन के फेरे भी बढ़ाए जा सकते हैं। अंतिम फेरे में इस ट्रेन को इटारसी तक भी भेजा जा सकता है। प्रयास कर रहे हैं कि 2019 अंत तक मेमू ट्रेन पटरी पर आ जाए। डीआरएम ने बीड़ स्टेशन के प्लेटफार्म की चौड़ाई बढ़ाने की संभावना भी तलाशी।

खबरें और भी हैं...