पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Sendhwa News Mp News Do Not Have Anti Rabies Injections In Hospital For More Than 300 Patients Coming Every Month

अस्पताल में 1 माह से एंटी रैबीज इंजेक्शन नहीं, हर माह आ रहे 300 से अधिक मरीज

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल में करीब एक माह से एंटी रैबीज के इंजेक्शन नहीं है। मरीजों को बाजार से खरीदकर लाना पड़ रहा है। अस्पताल से प्राप्त जानकारी के अनुसार महीने में 300 से अधिक मरीजों को इंजेक्शन लगाए जाते हैं।

शहर के मोतीबाग में रहने वाले सचिन नाथ ने बताया उसे महाराष्ट्र के जलगांव में कुत्ते ने काट लिया। डॉक्टर ने इंजेक्शन लगाने के लिए कहा। एक इंजेक्शन लगाने के बाद सिविल अस्पताल सेंधवा में दूसरा इंजेक्शन लगवाने पहुंचा, लेकिन डॉक्टरों ने कहा अस्पताल में एक माह से रैबीज के इंजेक्शन नहीं होने से आपको बाजार से खरीदकर लाना होगा। बाजार में इसकी कीमत कीमत 350 से 400 रुपए है। इतना महंगा इंजेक्शन नहीं खरीद पाया। अस्पताल में आने के बाद ही इंजेक्शन लगवाउंगा। बीएमओ डॉ. जेपी पंडित ने कहा जिले को इंजेक्शन संबंधित वितरण कंपनी से नहीं मिलने पर अस्पताल में इंजेक्शन नहीं आ पाए। इसको लेकर सीएमएचओ को अवगत कराया है। जल्द ही इंजेक्शन आ जाएंगे।

जानवर के काटने के 72 घंटे में लगना जरूरी है इंजेक्शन

महाराष्ट्र में लिखी पर्ची दिखाता सचिन नाथ।

मुहिम... नपा कुत्तों को पकड़कर शहर से करे बाहर

शहर में सड़कों व गलियों में आवारा कुत्ते समूह बनाकर घूमते रहते हैं। जो लोगों को निशाना बनाते हैं। पूर्व में शहर में कुत्तों द्वारा काटने की कई घटनाएं हो चुकी हैं। लेकिन नगर पालिका द्वारा कार्रवाई नहीं की जा रही है। शहर वासियों ने बताया नगर पालिका द्वारा आवारा कुत्तों व पशुओं को पकड़कर शहर के बाहर छोड़ना चाहिए। नहीं तो ऐसी घटनाएं आय दिन शहर में होती रहेंगी। कुछ समय पूर्व एसडीएम के निर्देश पर नगर पालिका ने आवारा मवेशियों को पकड़ने की मुहिम शुरू की थी। इसके तहत दो-तीन दिन तक गाय और बछड़ों को पकड़कर शहर के बाहर ले जाकर छाेड़ा गया। इसके बाद नगर पालिका द्वारा मुहिम बंद कर दी गई। इस कारण अभी भी शहर में गाय और बछड़े घूमते नजर आते हैं। इनकी वजह से आवागमन बाधित होता है। शहर के मुख्य चौराहों पर पशुओं के जमावड़े के कई बार दुर्घनाओं का अंदेश भी रहता है। नगर पालिका द्वारा पशुओं को पकड़ने की कार्रवाई फिर शुरू करनी चाहिए।

समस्या... आसपास के स्वास्थ्य केंद्रों से मंगवाए थे वो भी हो गए खत्म

अस्पताल में पता करने अस्पताल कर्मियों ने बताया 1 माह से जिले से इंजेक्शन प्राप्त नहीं हो रहे हैं। आसपास के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों से इंजेक्शन मंगवाए थे लेकिन खत्म होने से अब मरीजों को इंजेक्शन नहीं लगा पा रहे हैं। मरीजों को बाजार से इंजेक्शन खरीदकर लाना पड़ रहा है। मरीज इंजेक्शन खरीदकर लाते हैं, तो उनका इलाज कर देते हैं। अस्पताल में प्रतिदिन 5 से ज्यादा मरीज पहुंचते हैं। इंजेक्शन नहीं होने से गरीब लोगों को बाजार से खरीदने में काफी दिक्कत हो रही है।

जािनए... रैबीज और इसके बचाव

किसी को कुत्ते ने काट लिया है तो 72 घंटे के अंतराल में एंटी रैबीज वैक्सीन का इंजेक्शन जरूर लगवा लेना चाहिए। बीएमओ डॉ. जेपी पंडित ने बताया निर्धारित समय में इंजेक्शन नहीं लगवाने से रैबीज हो सकता है। यह रोग 19 वर्षों तक रोगी को अपनी गिरफ्त ले सकता है। ऐसा होने के बाद रैबीज का कोई भी इलाज उपलब्ध नहीं हैं। 5 इंजेक्शन लगाना जरूरी है। जंगली जानवर के काटने के बाद मरीज को अगर घाव अधिक गहरा नहीं हो तो उसको साबुन से कम से कम 15 मिनट तक अवश्य धोएं। घाव को कभी भी ढकें नहीं। घाव अधिक गहरा हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह से साफ-सफाई का ध्यान रखें। घरों में पालतू कुत्तों को एंटी रैबीज का टीका अवश्य ही लगवाया जाए। अगर किसी घाव पर गलती से कुत्ते की लार गिर जाती है तो उससे भी रैबीज हो जाता है। जानवर जैसे कुत्ता, बंदर, सुअर, चमगादड़ आदि के काटने से जो लार व्यक्ति के खून में मिल जाती है, उससे रैबीज नामक बीमारी होने का खतरा रहता है। इस रोग में व्यक्ति का मानसिक संतुलन खराब हो जाता है। वो किसी भी चीज को देख कर भड़क सकता है। उसे सबसे अधिक पानी से डर लगता है। अगर रोगी पानी पीने मात्र की भी सोचता है तो उसके कंठ में जकड़न महसूस होती है। रोगी की नाक, मुहं से लार निकलती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें