पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sendhwa News Mp News If You Want To Make Your Home A Paradise Then The Tribulation Will Have To Be Removed From Life

अपने घर को स्वर्ग बनाना चाहते हैं तो क्लेश को जीवन से भगाना होगा दूर

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जैन स्थानक में आयोजित प्रवचन में जैन साध्वी विरक्ति मसा ने कहा

भास्कर संवाददाता | सेंधवा

जीवन में यदि हम शांति चाहते हंै, घर को स्वर्ग बनाना चाहते हैं, तो क्लेश को दूर भगाना ही होगा। यह क्लेश कचरे के समान है। जिस प्रकार हम कचरे को घर में रखना पसंद नहीं करते इसी प्रकार यह क्लेश रूपी कचरा भी हमारे में जीवन में क्यों एकत्रित कर रहें हैं। हमें सजगता से इस कचरे को जीवन से निकाल फेंकना हैं अन्यथा ये क्लेश भयंकर परिणाम देने वाला है।

शहर में चार्तुमास कर रही जैन साध्वी विरक्ति म.सा. ने देवी अहिल्या मार्ग स्थित जैन स्थानक में व्यक्त किए। उन्होंने कहा आज हमने जीवन को कुरूक्षेत्र बना रखा है। हम छोटी-छोटी बातों को लेकर बैठे रहते हैं और क्लेश करते हैं। ऐसा करके हम स्वयं को, घर को और समाज को कलुषित कर रहें हैं। आज घर-घर में तु-तु, मैं-मैं हो रही है और क्लेश का वातावरण है। बड़ी विडंबना है, कि हमने घर को युद्ध का मैदान बना रखा है। हम क्रोध व क्लेश मे आकर कैसे शब्द बोल रहें हैं, किसके साथ बोल रहें हैं, क्या बोल रहें हैं यह भी भुल जाते हैं। पर याद रखना ये बाद में हमें पश्चताप ही देने वाले हैं। ज्ञानी हमें यही समझाते है कि जीवन में थोड़ी धैर्यता व शांतता रखना जरूरी है।

जितना श्रम विवाद में करते हैं उतना अच्छे काम में करें तो जीवन हो जाएगा सफल

जब भी परिवार में, समाज में क्लेश की स्थिति निर्मित हो उसको दूर करने का सबसे अच्छा उपाय यह है कि जब एक व्यक्ति क्रोध में कुछ बोले तो दूसरे को मौन रहना चाहिए। पलट कर क्रोध में ना बोले यह कला यदि हम सीख गए तो क्लेश एवं विवाद बढ़ने वाला नहीं है। एक गरम, दूसरा गरम तो फूटे करम और एक गरम पर दूसरा नरम तो जीवन में रह जाएगा धर्म। हम विवाद में जितना श्रम करते हैं, उतना यदि अच्छे कार्य के लिए करें तो हमारा जीवन सफल हो जाएगा। जब भी क्लेश रूपी ज्वाला हमारे भीतर उठे तो उसे शांत करने के लिए हमें एक वाक्य हमारे जीवन में, मन में, दिमाग में उतार लेना चाहिए ‘हे जीव तू शांत रे’, यह वाक्य हमारे कषायों की ज्वाला को शांत कर हमें क्लेश मुक्त करेगा।

गर्म जल आधारित 6 उपवास के लिए संकल्प

बुधवार को मंजु नाहटा ने केवल गर्म जल पर आधारित 6 उपवास का संकल्प लिया। धर्मसभा में र|माला बुरड़, प्रभावती जैन, विमल विनायकिया, तारा नाहटा, राजुल कांकरिया, र|ा सुराणा, सविता सुराणा, किरण सकलेचा सहित श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...