पासवर्ड नहीं मिलने से 8 सहकारी समितियों में नहीं हो पा रहा किसानों का पंजीयन

Badwani News - रबी सीजन में गेहूं की फसल की कटाई शुरू हो चुकी है। सरकार ने आदिम जाति समिति के माध्यम से समर्थन मूल्य पर गेहूं की...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 04:37 AM IST
Sendhwa News - mp news registration of farmers not being able to get 8 co operative societies without getting password
रबी सीजन में गेहूं की फसल की कटाई शुरू हो चुकी है। सरकार ने आदिम जाति समिति के माध्यम से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी के लिए 21 जनवरी से किसानों का पंजीयन भी शुरू कर दिया है लेकिन सेंधवा की 8 समितियों को पंजीयन करने के लिए पोर्टल का पासवर्ड नहीं मिला है। इससे पंजीयन का कार्य नहीं हो रहा है।

आदिम जाति समितियों के कर्मचारियों से ऋण माफी के आवेदन सत्यापन का कार्य भी कराया जा रहा है। समर्थन मूल्य खरीदी के लिए किसानों का पंजीयन कराने की अंतिम तिथि 23 फरवरी बताई गई है। पंजीयन शुरू होने के 24 दिन बाद भी अब तक सेंधवा की 8 आदिम जाति समितियों को पंजीयन करने के लिए पोर्टल का पासवर्ड नहीं मिला है। ऐसे में क्षेत्र के किसानों को परेशानी हो रही है। सरकार द्वारा प्रतिवर्ष रबी के सीजन में गेहूं की फसल की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जाती है। इसको लेकर 21 जनवरी से पंजीयन का कार्य शुरू होना था लेकिन सेंधवा की आदिम जाति सेवा समिति जामली, बाबदड़, मेहतगांव, मालवन, जोगवाड़ा, चाटली एवं गवाड़ी में अब तक पंजीयन करने के लिए पोर्टल का पासवर्ड नहीं दिया गया है। इससे अब तक एक भी किसान का खरीदी के लिए पंजीयन नहीं हुआ है। वहीं सेंधवा की आदिम जाति समिति धनोरा एवं बलवाड़ी को पासवर्ड दिया गया है। जहां पर किसानों का पंजीयन किया जा रहा है। वहीं किसान भी समर्थन मूल्य कम होने से रूचि नहीं दिखाकर पंजीयन नहीं करा रहे हैं। पंजीयन का कार्य शुरू होने के 24 दिन बाद भी सेंधवा की आठ समितियों में एक भी किसान का पंजीयन नहीं हो सका है। ऐसे में आगे किसानों को गेहूं की उपज बेचने में परेशानी आएगी।

धनोरा सोसायटी में ऋणमाफी योजना के साथ ही समर्थन मूल्य का पंजीयन भी जारी है।

सेंधवा मार्केटिंग विपणन संस्था को खरीदी के लिए कर दिया अपात्र

सेंधवा विपणन संस्था (मार्केटिंग सोसायटी) को इस वर्ष समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी करने के लिए अपात्र कर दिया गया है। इस वर्ष समर्थन मूल्य पर खरीदी में 44 क्विंटल ज्वार खरीदी नहीं होने पर भी उसकी जानकारी पोर्टल पर अपलोड करना बताया गया था। इसके चलते ऐसा किया गया है। इस संबंध में मार्केटिंग सोसायटी के मैनेजर ने कहा कि खरीदी के आखिरी दिन किसान माल लेकर आया था इसलिए एंट्री कर ली थी। तुलाई के दौरान माल खराब होने से नहीं खरीदा लेकिन गलत एंट्री को हटाया नहीं गया था। इस संबंध में अफसरों को पत्र भी लिख चुके हैं। मार्केटिंग सोसायटी द्वारा ही समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की जाती है। इसमें सभी आदिम जाति समितियों के पंजीकृत किसान गेहूं की उपज बेचने लाते थे। ऐसे में किसानों को उपज बेचने में परेशानी उठानी पड़ सकती है।

कर्जमाफी के काम के कारण नहीं दे पा रहे ध्यान

कर्जमाफी के आवेदनों का सत्यापन कराने को लेकर सभी समितियों के कर्मचारियों से काम कराया जा रहा है। इसके चलते समितियों के प्रबंधक किसानों के समर्थन मूल्य पर पंजीयन की ओर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं। पंजीयन के लिए पोर्टल का पासवर्ड नहीं मिलने की मुख्य वजह बताई जा रही है। 23 फरवरी तक ऋण माफी योजना के काम को पूर्ण करने के निर्देश दिए गए हैं।

समर्थन मूल्य पर चना खरीदी का पंजीयन भी आज से हुआ शुरू

समर्थन मूल्य पर चना खरीदी के लिए भी किसानों के पंजीयन का कार्य 13 फरवरी से शुरू किया है लेकिन पोर्टल का पासवर्ड नहीं मिलने से इसका भी पंजीयन कार्य शुरू नहीं हो पाया है। किसानों से खरीदी करने के लिए पंजीयन करने की अंतिम तिथि 9 मार्च बताई गई है।

...और इधर , धनोरा और बलवाड़ी में हो रहा पंजीयन

धनोरा/बलवाड़ी | धनोरा व बलवाड़ी समितियों में पंजीयन चल रहे हैं। धनोरा में अब तक 12 किसानों ने ही पंजीयन करवाया है। समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए किसानों को पंजीयन करवाना अनिवार्य है। केंद्र सरकार ने समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी कर अब 1840 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया है। बलवाड़ी क्षेत्र में 93 किसानों का ही पंजीयन हुआ है। किसानों ने बताया इस साल प्रदेश सरकार द्वारा समर्थन मूल्य कम रखने से किसान पंजीयन कराने में रुचि कम दिखा रहे हैं। अभी गेहूं की कीमत खुले बाजार में प्रति क्विंटल 2000 रुपए से अधिक है। ऐसे में किसान पंजीयन करने में ज्यादा दिलचस्पी नहीं दिखाई दे रही है।



X
Sendhwa News - mp news registration of farmers not being able to get 8 co operative societies without getting password
COMMENT