मच्छर की उत्पत्ति के स्थानों का नियमित रूप से किया जाए सर्वे

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:16 AM IST

Badwani News - डेंगू व चिकनगुनिया से बचाव के लिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में एडीज मच्छरों के उत्पत्ति स्थलों का सर्वे नियमित...

Sendhwa News - mp news surveys of mosquito origin places
डेंगू व चिकनगुनिया से बचाव के लिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में एडीज मच्छरों के उत्पत्ति स्थलों का सर्वे नियमित रूप से किया जाए। इसके लिए मैदानी स्तरीय कार्यकर्ता भ्रमण के समय घरों में एडीज मच्छर के लार्वा का सर्वे करेंगे व पानी के कंटेनरों में लार्वा पाए जाने पर उन्हें नष्ट करेंगे। सिविल अस्पताल में राष्ट्रीय डेंगू दिवस पर हुई विकासखंड स्तरीय जागरुकता कार्यशाला में ये जानकारी अधिकारी व कर्मचारियों को दी गई।

कार्यशाला में बीएमओ डॉ. जेपी पंडित ने बताया प्रदेश में पिछले साल 45 जिलों में डेंगू के प्रकरण व 28 जिलों में चिकनगुनिया के प्रकरण पाए गए। इस साल डेंगू, चिकनगुनिया का आउट ब्रेक अथवा महामारी की स्थिति निर्मित न हो इसलिए अभी से बचाव व नियंत्रण के प्रभावी उपाय किए जाना आवश्यक हैं। क्षेत्र में बुखार के मरीज सामान्य से बहुत अधिक संख्या में आने लगते हैं। बीमारी पर नियंत्रण करना कठिन हो जाता है। प्रदेश स्तर से स्वास्थ्य संस्थाओं पर डेंगू की सेंटी नल साइट के रूप में चिन्हित कर जांच की व्यवस्था की जा रही है। इसलिए जिला अस्पताल बड़वानी को वर्ष 2019 डेंगू, चिकनगुनिया की जांच के लिए क्रियाशील किया जाना है। डेंगू से संक्रमित व्यक्ति में बीमारी के लक्षण प्रकट होने के 24-48 घंटे पूर्व ही यदि एडीज मच्छर ऐसे व्यक्ति को काट ले तो मच्छर संक्रमित हो जाता है। क्षेत्र में बुखार की अधिकता का पता चलने के पूर्व ही बीमारी का फैलाव हो जाता है। इसलिए त्वरित रूप से मच्छरों की उत्पत्ति प्रभावी रूप से रोकी जाए।

आवश्यक हुआ तो कीटनाशक का छिड़काव भी करवाएंगे- बीएमओ

मच्छरों के उत्पत्ति स्थल टायर, पानी के टेंक, कंटेनर, कूलर, नारियल का खोल आदि से पानी की निकासी करवाएंगे एवं आवश्यक हुआ तो कीटनाशक का छिड़काव करवाएंगे। यदि गांव, वार्ड में डेंगू्, चिकनगुनिया के पॉजिटीव प्रकरण पाए जाते हैं, तो उन गांवों एवं वार्डों में तत्काल कीटनाशक का नियमानुसार धुआं, स्प्रे किया जाएगा। प्रचार प्रसार के लिए प्रभावित क्षेत्र में बीमारी से बचाव एवं नियंत्रण के संबंध में स्वास्थ्य दल द्वारा आवश्यक जानकारी प्रदान की जाएगी।

स्वास्थ्यकर्मियों को डेंगू बीमारी फैलने की जानकारी देते बीएमओ।

परिजन बोले- ड्यूटी डॉक्टर ने हालत गंभीर बताकर निजी अस्पताल ले जाने का कहा

बीएमओ ने कराया भर्ती, बोले- मामले से सीएमएचओ को कराया अवगत

भास्कर संवाददाता | सेंधवा

बुखार से पीड़ित बालिका के परिजनों ने सिविल अस्पताल के डॉक्टर पर बालिका की हालत गंभीर बताकर इलाज करने से इंकार करने का आरोप लगाया। बीएमओ के आवासगृह पहुंचने पर बीएमओ ने बालिका को अस्पताल में भर्ती करवाकर इलाज शुरू किया। बालिका के परिजनों ने इसकी शिकायत नहीं की है। बीएमओ ने मामले की जानकारी सीएमएचओ को दी है। ड्यूटी डॉक्टर ने आरोप को गलत बताया है।

नंद कॉलोनी निवासी हिमांशी (3) को तेज बुखार होने पर चाचा संतोष पटवा उसे शुक्रवार सुबह 7 बजे सिविल अस्पताल ले गए। नर्स ने इंजेक्शन लगाकर ड्यूटी डॉक्टर सुरेश चौहान को फोन लगाया। उन्होंने 7.30 बजे अस्पताल पहुंचकर कहा मेरी ड्यूटी को सिर्फ एक घंटा बचा है। इसे आप शिशु रोग विशेषज्ञ को बताएं। निजी अस्पताल ले जाकर इलाज कराने को कहा। परिजन अस्पताल परिसर में बीएमओ डॉ. जेपी पंडित के आवासगृह पहुंचे। बीएमओ ने बालिका की जांचकर उसे अस्पताल में भर्ती कराया। परिजनों ने डॉ. सुरेश चौहान द्वारा इलाज करने से मना करने की मौखिक शिकायत की। बीएमओ ने मामले की गंभीरता को देखते हुए सीएमएचओ डॉ. वीबी जैन को अवगत करवाया।

डॉक्टर के इंकार करने पर परिजन बच्ची को बीएमओ के घर ले गए।

शिशु रोग विशेषज्ञ से इलाज कराने का कहा

मामले को लेकर ड्यूटी डॉ. सुरेश चौहान ने कहा उनकी ड्यूटी सुबह 9 बजे तक की थी। बुखार होने से बालिका को झटके आ रहे थे। हालत काफी गंभीर होने से मैंने परिजनों को शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनी पटेल से इलाज कराने के लिए कहा था। निजी अस्पताल ले जाने का नहीं कहा था।

Sendhwa News - mp news surveys of mosquito origin places
X
Sendhwa News - mp news surveys of mosquito origin places
Sendhwa News - mp news surveys of mosquito origin places
COMMENT