ग्रामीणों के दबाव में पकड़े लकड़ी चोर, रेंजर के सामने आरोपी बोले- हर वनकर्मी को देते हैं रुपए

Khandwa News - बलड़ी वन परिक्षेत्र (किल्लौद) में वन कर्मियों की मिलीभगत से सागौन माफिया सालों से सक्रिय है। कई बार ग्रामीणों के...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:40 AM IST
Harsood News - mp news the villagers caught under pressure from the villagers the accused said in front of the ranger every worker gives money
बलड़ी वन परिक्षेत्र (किल्लौद) में वन कर्मियों की मिलीभगत से सागौन माफिया सालों से सक्रिय है। कई बार ग्रामीणों के आगे आने पर वन अफसरों को मजबूरी में केस बनाना पड़ता है। गुरुवार की रात भी दरकली बीट में दो बैलगाड़ी पर दर्जनभर से अधिक सागौन पेड़ काट कर ले जाए जा रहे थे। नगावां के ग्रामीणों की सूचना पर रेंजर ने टीम के साथ जाकर जब्ती बनाई। आरोपियों ने ग्रामीणों की मौजूदगी में ही रेंजर से कहा कि डिप्टी रेंजर, बीट प्रभारी से लेकर हर वनकर्मी को 1500 से 3000 हजार रुपए देते हैं। वे आपके नाम पर भी हमसे रुपए लेते हैं। इस आरोप पर रेंजर कुछ जवाब नहीं दे सके।

पकड़े गए आरोपी विजय सिंह पिता भूरा तथा रामसिंह पिता मांगीलाल निवासी नगांवा ने बताया हम तो दोपहर 3 बजे भी सागौन काटकर ले गए थे। 15 दिन पहले रात में भी सागौन काटे थे। जब रुपए दे रहे हैं तो कभी भी काट सकते हैं। हमने डिप्टी रेंजर भगवान पटेल, नाकेदार कृष्ण कुमार मिश्रा, रामरथ प्रजापति को 1500-1500 रुपए नकद दिए। दो-दो हजार रुपए अगले दिन देने की बात हुई थी। रेंजर के सामने बेखौफ आरोपियों के इस बयान का ग्रामीणों ने वीडियो भी बनाया है। सागौन जब्त कराने में गांव के मुकुल सारन, नंदू पंवार, बलराम भुसारे, बलीराम पंवार की सक्रियता रही।

केस दर्ज कर जमानत भी दे दी- जंगल से कीमती सागौन काटने के आरोपी विजय पिता भूरा से 11 नग (0.299 घनमीटर) तथा राम सिंह पिता मांगीलाल निवासी नगांवा से 12 नग सागौन (0.338 घनमीटर) सागौन लट्‌ठे जब्त कर केस बनाया। इनके साथी फूलसिंह पिता किशोर निवासी सुकल्या तलाई को भी गिरफ्तार किया है। डिप्टी रेंजर भगवान पटेल ने बताया तीनों आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर जमानत पर छोड़ दिया है। बैलगाड़ी भी सुुपुर्दनामे पर आरोपियों को दे दी गई।

मामला दबाने की कोशिश करते रहे रेंजर

जंगल से एक ही दिन और रात में 23 नग सागौन काटने और आरोपियों द्वारा रुपए देने के आरोप के बावजूद रेंजर डीपी बरकड़े मामले को दबाने की कोशिश करते रहे। लकड़ी चोरों ने जब्ती के दौरान नाकेदार राम प्रसाद साक्य से मारपीट भी की। नाकेदार की नाक पर चोट भी लगी। लेकिन रेंजर ने इस मामले की पुलिस को शिकायत तो दूर सूचना तक नहीं दी। इतना ही नहीं आरोपियों को भी तत्काल छोड़ दिया गया।

नोटिस देकर जांच करेंगे


प्रतिवेदन का इंतजार है


वन अमले ने अवैध सागौन से भरी दो बैलगाड़ी जब्त की।

...और इधर, 5 एकड़ में लगाए 3000 सागौन रिकार्ड में दर्ज नहीं कर रहे राजस्व अधिकारी

पटवारी खेत का निरीक्षण कर पौधों की कर चुकी हैं गिनती, वन अफसर कर रहे सहयोग

खालवा | केंद्र व प्रदेश सरकार पर्यावरण सुधार के लिए किसानों को पौधारोपण के लिए प्रोत्साहित कर रही है। प्रधानमंत्री भी देश के लोगों से आह्वान कर चुके हैं। इसी उद्देश्य से अपने खेत में 5 एकड़ में सागौन के 3000 पौधे लगाने वाला किसान राजस्व रिकार्ड में इसे दर्ज कराने के लिए परेशान हो रहा है। तहसील कार्यालय में उसे कोई सहयोग करने को तैयार नहीं है। जबकि पटवारी खेत का मुआयना कर पौधों की गिनती भी कर चुकी हैं।

मामला खालवा ब्लाक के ग्राम कोठा का है। यहां के किसान चंद्र प्रकाश सांखल ने दो साल पहले खेत में 2150 तथा इस साल 1000 सागौन पौधे लगाए हैं। किसान पौधे वन विभाग में दर्ज कराना चाहता है और राजस्व रिकार्ड में अपने खेत के रकबे में भी चढ़ाना चाहता है। ताकि पेड़ परिपक्व होने पर वह इनकी कटाई कर सके। वन अफसरों ने किसान को एक फार्म दिया है जो भरकर तहसील कार्यालय देना है। वह तीन बार गांव के पटवारी से रकबे पर पौधे अंकित करने का आग्रह कर चुका है। कुछ दिन ही पहल महिला पटवारी गरिमा सोनी ने पदभार संभलाा है। किसान ने उनसे आग्रह किया तो उन्होंने लिखित आवेदन मांगा। इसके बाद खेत में जाकर पौधों कि गिनती भी कर ली। उन्होंने कहा शाम तक रिकार्ड में दर्ज कर एक फार्म भी देंगे जो वन विभाग को देना होगा। शाम के जब किसान पटवारी के पास पहुंचा तो उन्होंने स्पष्ट कह दिया कि तहसीलदार ने काम करने से मना कर दिया है। किसान तहसीलदार के पास पहुंचा तो उन्होंने कहा पहले केस लगाना पड़ेगा। इसके बाद देखेंगे क्या कर सकते हैं। किसान चार-पांच बार तहसील कार्यालय के चक्कर लगा चुका है। चंद्र प्रकाश का कहना है वन अफसरों के प्रोत्साहन पर उसने खेत में बड़े स्तर पर पौधारोपण किया। अब राजस्व विभाग सहयोग नहीं कर रह है। यदि राजस्व रिकार्ड में दर्ज नहीं किया गया तो मुझे सागौन पौधे उखाड़ना पड़ेगा।

साहब ने मना किया है


मुझे आवेदन नहीं मिला


वन अफसरों के सहयोग से किसान ने 5 एकड़ में सागौन के पौधे लगाए हैं।

Harsood News - mp news the villagers caught under pressure from the villagers the accused said in front of the ranger every worker gives money
X
Harsood News - mp news the villagers caught under pressure from the villagers the accused said in front of the ranger every worker gives money
Harsood News - mp news the villagers caught under pressure from the villagers the accused said in front of the ranger every worker gives money
COMMENT