मटेरियल रिकवरी सेंटर पर शहर से निकले कचरे को करेंगे अलग-अलग / मटेरियल रिकवरी सेंटर पर शहर से निकले कचरे को करेंगे अलग-अलग

Badwani News - स्वच्छ भारत मिशन में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए नगर पालिका कवायद में जुट गई है। अन्य नगरीय निकायों की तरह...

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 04:46 AM IST
Sendhwa News - on the material recovery center the waste will be separated from the city
स्वच्छ भारत मिशन में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए नगर पालिका कवायद में जुट गई है। अन्य नगरीय निकायों की तरह नगरपालिका भी मटेरियल रिकवरी फेसेलिटी (एमआरएफ) सेंटर बनवाएगी। इस सेंटर पर शहर की विभिन्न कॉलोनियों से आने वाले कचरे से मकानों से निकला मलबा, प्लास्टिक, कागज, बोतल, कांच और धातु को अलग-अलग किया जा सकेगा।

नगरपालिका फिलहाल वाहनों के माध्यम से घर-घर से कचरा एकत्रित कर शहर से बाहर फेंक रही है। इस कचरे का निपटान नहीं किया जा रहा है। स्वच्छता सर्वेक्षण में ये महत्वपूर्ण है। अब नगरपालिका कचरे को अलग-अलग करने की व्यवस्था कर रही है। इसके लिए 28 लाख रुपए की लागत से मटेरियल रिकवरी फेसेलिटी सेंटर और स्मॉल लोकल फिकल स्लज ट्रीटमेंट प्लान निर्माण कराया जाएगा। शहर से निकलने वाला कचरा और मलबा इन सेंटर पर भेजा जाएगा। सेंटर पर रेत, पत्थर, ईंट, प्लास्टिक और कांच की बोतल अलग की जाएगी। कचरे के साथ आने वाले धातु जैसे लोहा और कांच आदि को भी मैनुअली अलग किया जाएगा। इसके अलावा गीला कचरा अलग कर इससे खाद का निर्माण किया जाएगा। नगरपालिका शहर से निकलने वाले कचरे को शहर के पास नकटीरानी स्थित जमीन पर डाल रही है। नगरपालिका के सहायक यंत्री आर. मिश्रा ने बताया कि नकटीरानी स्थित जमीन पर सीमेंट के पिट बनवाए जाएंगे। टेंडर होने के दो माह के अंदर ठेकेदार को इसका निर्माण कराना होगा। सेंटर पर कचरा अलग-अलग किया जाएगा। वहीं एकत्र करके लाए गए गीले कचरे से खाद बनाई जाएगी।

रामकटोरा नाले के बाद मोतीबाग नाले की कराई जाएगी सफाई- धामोने

शहर के रामकटोरा क्षेत्र से गुजरने वाले नाले की सफाई करते नगरपालिका के सफाईकर्मी।

नगरपालिका ने शुरू की नालों की सफाई

इधर शहर में होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर नगरपालिका ने नालों की सफाई भी शुरू कर दी है। इसकी शुरुआत रामकटोरा नाले से की गई है। शनिवार को 20 से अधिक सफाईकर्मियों ने रामकटोरा नाले की सफाई कर इसमें से चार ट्रॉली मलबा निकाला। इस मलबे को ट्रैक्टर-ट्रॉली के माध्यम से शहर से बाहर फेंका गया। नगरपालिका ने प्रभारी स्वच्छता निरीक्षक मोहन धामोने ने बताया कि बारिश के बाद तीसरी बार सफाई की जा रही है। मोतीबाग नाले की सफाई भी की जाएगी। यहां पर जेसीबी से मलबा निकलवाया जाएगा। पहले कर्मचारी शहर से निकला कचरा नालों में फेंक रहे थे लेकिन अब इस पर रोक लगा दी गई है।

जनवरी 2019 में होगा सर्वेक्षण, बदलाव किया

स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 में बदलाव किया गया है। देश के सभी शहरों और नगरों में 4 से 31 जनवरी 2019 के बीच सर्वेक्षण किया जाएगा। इस बार तीन से बढ़कर चार घटक हो गए हैं। 4000 अंकों से बढ़कर 5000 अंकों वाले सर्वे के चार भाग होंगे। हर भाग 1250 अंकों का है। प्रमाणीकरण का नया भाग जोड़ा है। जिसका 20 प्रतिशत स्टाफ रेटिंग और 5 प्रतिशत ओडीएफ, ओडीएफ प्लस का होगा। स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में टीमों ने नगरपालिका कार्यालयों में पहुंचकर दस्तावेजों की जांच की थी। इस बार कोई टीम नहीं आएगी। स्वतंत्र संस्था की ओर से प्रमाणीकरण, ऑनलाइन वेरिफिकेशन, नागरिकों का फीडबैक और ऑनग्राउंड स्क्रूटिनी की जाएगी।

X
Sendhwa News - on the material recovery center the waste will be separated from the city
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना