पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Police Arrested Rajendra, The Former Managing Director Absconding In The Avanti Yarn Mill Forgery Case

अवंति सूत मिल फर्जीवाड़ा मामले में फरार पूर्व प्रबंध संचालक राजेंद्र को पुलिस ने भोपाल से पकड़ा

7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे 13 फरवरी तक पुलिस रिमांड पर दिया गया है।-फाइल फोटो
  • आरोपी 13 माह से फरार था, आरोपी ने सहकारिता विभाग से दोबारा जांच की मांग की थी
  • बयान के लिए सहकारिता मुख्यालय भोपाल बुलाया गया था, जहां से पकड़कर पुलिस सनावद लाई

सनावद. अवंति सूत मिल में किए गए 24 करोड़ रुपए के फर्जीवाड़े के आरोपी पूर्व प्रबंध संचालक राजेन्द्र सांकलिया को पुलिस ने भोपाल से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी पिछले 13 माह से फरार चल रहा था।
अवंति सूत मिल सनावद के पूर्व प्रबंध संचालक राजेंद्र सांकलिया पर जांच के दौरान धोखाधड़ी के आरोप लगे थे। उसकी दोबारा जांच के लिए उसने सहकारिता विभाग से मांग की थी। जिस पर उसे बयान देने के लिए सोमवार को भोपाल कार्यालय बुलाया गया था। जहां पर बयान देने के दौरान पुलिस ने सहकारिता आयुक्त कार्यालय भोपाल से गिरफ्तार किया। उसे गिरफ्तार कर भोपाल से सनावद लाया गया। आरोपी को सनावद न्यायालय में पेश किया गया। जहां से तीन दिन की रिमांड मिली है।

2016 में दर्ज किया गया था केस
टीआई राजेंद्र सोनी ने बताया 27 जून 2016 को खरगोन सहकारिता के अंकेक्षण अधिकारी काशीराम अवासे ने सूत मिल के निलंबित प्रबंध संचालक राजेंद्र साकलिया पर फर्जी दस्तावेज तैयार कर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक खरगोन शाखा सनावद से अधिक ऋण की राशि का आहरण करने व धोखाधड़ी करने के संबंध में सनावद थाने पर मामला दर्ज किया गया था। विवेचना के दौरान करीब 13 माह से फरार था। जिस पर खरगोन एसपी सुनील पांडेय ने एक हजार रुपए की इनाम राशि घोषित की थी। मामले को लेकर पुलिस करीब 7 माह से उसकी तलाश कर रही थी। 

सूचना पर पता चला कि उसने भोपाल विंध्याचल पर स्थित संयुक्त आयुक्त सहकारिता मुख्यालय में मामले की दोबारा जांच करने के लिए आवेदन दिया है। उसे 10 फरवरी को बयान देने के लिए बुलाया था। वहां जहांगीराबाद पुलिस की मदद से उसे पकड़ा गया। भोपाल ट्रेनिंग पर गए सनावद थाने के आरक्षक बड़े राजा सिंह व शैलेंद्र राजावत द्वारा उसे सनावद थाने लाया गया। जहां पर मंगलवार को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे 13 फरवरी तक पुलिस रिमांड पर दिया गया है।

जांच... 5 करोड़ 45 लाख रु. की 2901 गठानें कम मिली थी
सूतमिल के पूर्व एमडी व 24 करोड़ रुपए के फर्जीवाड़े के आरोपी राजेंद्र सांकलिया पर फर्जीवाड़े पर 27 जून 2016 को केस दर्ज हुआ था। इस पर तत्कालीन कलेक्टर अशोक वर्मा के अादेश पर सहकारिता विभाग खरगाेन के अंकेक्षण अधिकारी काशीराम अवासे ने एफआईआर दर्ज कराई थी। एफआईआर के अनुसार सूतमिल में प्रबंधक रहते हुए राजेंद्र सांकलिया ने 24 करोड़ रुपए का फर्जीवाड़ा किया था। उसके अलावा फर्जी दस्तावेज जिला सहकारी केंद्रीय बैंक खरगोन में लगाकर अधिक ऋण निकालने का मामला है। इस आरोप में सांकलिया पर धारा 409, 420, 465, 467, 468 व 471 के तहत केस दर्ज किया गया है। 

राजेंद्र सांकलिया ने करोड़ों रुपए का फर्जीवाड़ा करने के बाद उसे पद से हटा दिया गया था। साथ ही केस दर्ज कर जेल तक भेजा जा चुका है। इसके बाद तत्कालीन कलेक्टर अशोक वर्मा ने सूतमिल का प्रभार लिया था। कलेक्टर वर्मा ने सहाकारिता विभाग के अधिकारियों को पूरे मामले की जांच करने के आदेश दिए थे। इसके बाद यह साढ़े पांच करोड़ रुपए का अतिरिक्त फर्जीवाड़े केस सामने उजागर हुआ। मामले के अनुसार सांकलिया ने जिला बैंक से लाेन लेने के लिए सूत मिल के प्लेज में रखी कॉटन स्टॉक 7910 गठानों के बारे में दर्शाया गया। जबकि भौतिक सत्यापन में यह मात्र 5009 गठानें ही पाई गई है। इन कुल बताई गठानाें में से करीब 2901 गठानें कम थी। जिनकी कुल कीमत 5 करोड़ 45 लाख 67810 रुपए थी।

स्वयं व परिवार के नाम नहीं है कोई संपत्ति
टीआई राजेंद्र सोनी ने बताया मामले की जांच के लिए इंदौर व उज्जैन नगर निगम से सांकलिया की संपत्ति की जानकारी मांगी थी। जिस पर दोनों नगर निगम से उसके नाम व परिवार के नाम कोई संपत्ति नहीं होना बताया गया है। अगर यह संपत्ति मिलती तो उसकी नीलामी कर रुपए वसूल किए जा सकते थे। टीआई ने बताया जांच के लिए गुरुवार को उसे इंदौर ले जाया जाएगा। तीन दिनों तक पूछताछ कर अन्य साक्ष्य जुटाए जाएंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें