--Advertisement--

आचार संहिता / निर्माता प्रियदर्शन को दिया जाएगा किशोर अलंकरण, 13 को नहीं होगा मुख्य कार्यक्रम



किशोर सांस्कृतिक प्रेरणा मंच की बैठक में दायित्व सौंपते पदाधिकारी। किशोर सांस्कृतिक प्रेरणा मंच की बैठक में दायित्व सौंपते पदाधिकारी।
X
किशोर सांस्कृतिक प्रेरणा मंच की बैठक में दायित्व सौंपते पदाधिकारी।किशोर सांस्कृतिक प्रेरणा मंच की बैठक में दायित्व सौंपते पदाधिकारी।

  • गौरीकुंज में होगी किशोर नाइट, आभास जोशी देंगे प्रस्तुति

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 10:50 AM IST

खंडवा. आचार संहिता के कारण 13 अक्टूबर को किशोर कुमार अलंकरण समारोह नहीं होगा। किशोर दा की पुण्यतिथि पर हर साल यह कार्यक्रम किया जाता है। इस बार संस्कृति विभाग द्वारा जिला प्रशासन के सहयोग से कार्यक्रम किया जाएगा। पुलिस लाइन मैदान पर होने वाला कार्यक्रम संभवत: गौरीकुंज सभागृह में किया जाएगा। इसमें शाम 7 बजे मुंबई के प्रसिद्ध कलाकार आभास जोशी किशोर दा के साथ ही अपने गीतों की प्रस्तुति देकर किशोर दा को श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे।

सम्मान के लिए प्रियदर्शन के नाम की घोषणा

  1. संस्कृति सचिव मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि इस वर्ष चयन समिति ने किशोर अलंकरण सम्मान हिंदी सिनेमा के सफल निर्माता प्रियदर्शन सोमन नायर को देने की घोषणा की है। प्रियदर्शन नार्थ और साउथ को जोडऩे वाले बड़े निर्माता निर्देशक, पटकथाकार एवं लेखक है। आचार संहिता के चलते कार्यक्रम में उन्हें पुरस्कृत नहीं किया जाएगा। आचार संहिता के पश्चात अलग कार्यक्रम कर उन्हें सम्मानित किया जाएगा।

  2. कौन है प्रियदर्शन

    30 जनवरी 1957 को केरल के अलापुझा में जन्मे प्रियदर्शन सोमन नायर 1982 से बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े हैं। उन्होंने फिल्म हेराफेरी, हलचल, मालामाल वीकली, चुप चुपके, भागमभाग जैसी कई फिल्मों का निर्माण किया। वे अपने करियर में 90 से अधिक फिल्मों का निर्माण कर चुके हैं। उनके योगदान को देखते हुए अलंकरण से नवाजा जाएगा।

  3. 2 दिन पहले नाम तय करने पर चर्चा

    हर साल किशोर कुमार अलंकरण फिल्म इंडस्ट्री में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले कलाकार को दिया जाता है। इससे कुछ दिन पहले चयनकर्ताओं की समिति नाम तय करती है। उसके नाम की घोषणा जल्द होती है लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। कार्यक्रम से 2 दिन पहले यानी 11 अक्टूबर को निर्देशक, पटकथाकार एवं लेखक प्रियदर्शन के नाम की घोषणा की गई। 

  4. 2013 में भी नहीं हुआ था समारोह

    2013 में भी विस चुनाव की आचार संहिता के कारण अलंकरण समारोह नहीं हुआ था। एक साल बाद एक ही कार्यक्रम में 2013 व 14 का सम्मान दिया था। इस साल भी चुनाव के कारण इसी तरह की स्थिति बन रही है।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..