पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Students Who Take Admission In MBBS Course Khandwa, Want To Leave

एमबीबीएस कोर्स में प्रवेश लेने वाले 66 विद्यार्थी छोड़ना चाहते हैं खंडवा, इंदौर-भोपाल पहली पसंद

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • विद्यार्थियों ने भरा अपग्रेडेशन का विकल्प, जिला अस्पताल में नहीं आते काॅलेज के डॉक्टर 
  • नए काॅलजों मंे रतलाम-विदिशा और पुराने में ग्वालियर-जबलपुर, सागर-रीवा भी मिल जाए तो जाने को तैयार 

खंडवा. मेडिकल कॉलेज में स्टेट कोटे से प्रवेश लेने वाले 94 में 62 व ऑल इंडिया कोटे के 16 से 4 कुल 66 विद्यार्थियों ने अपग्रेडेशन का विकल्प भरा है। कॉलेज छोड़ने का प्रमुख कारण छात्र-छात्राएं प्रदेश के मेट्रोसिटी इंदौर-भोपाल से सीधी कनेक्टिविटी की समस्या बता रहे हैं। भोपाल-इंदौर ट्रेन रूट से सीधे जुडे नए मेडिकल कॉलेज रतलाम-विदिशा व पुराने में इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर और भोपाल मेडिकल कॉलेज विद्यार्थियों की पहली पसंद है। 


नीट काउंसिलिंग के माध्यम से कॉलेज में स्टेट कोटे से पहले चरण में बुधवार को प्रवेश की प्रक्रिया पूरी हुई। पहले चरण में खंडवा कॉलेज में एमबीबीएस कोर्स की 97 सीटों पर विद्यार्थियों का आवंटन हुआ था। इसमें 94 छात्र-छात्राओं ने बुधवार तक प्रवेश लिया। बाकी बचे तीन में से दो विद्यार्थी कॉलेज ही नहीं आए। जबकि 1 छात्र को मूल निवासी और जाति प्रमाण पत्र में भिन्नता के कारण प्रवेश समिति ने अयोग्य करार दे दिया। वहीं ऑल इंडिया कोटे से दूसरे चरण में कॉलेज की 18 में से 16 सीटों पर विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया। एआई कोटे के 4 विद्यार्थियों ने भी अन्य कॉलेज में अपग्रेड होने का विकल्प भरा है। एआई कोटे में दूसरे चरण के तहत 25 जुलाई तक प्रवेश होगा। 


स्टेट कोटे का दूसरा चरण 3 अगस्त से 
स्टेट कोटे से कॉलेज की बची हुई 8 सीटों पर दूसरे चरण में विद्यार्थियों को प्रवेश मिलेगा। प्रवेश का दूसरा चरण 3 से 6 अगस्त तक चलेगा। वहीं कॉलेज में नवीन शिक्षण सत्र 2019-20 का शुभारंभ प्रवेश प्रक्रिया में विलंब के कारण अगस्त के पहले सप्ताह की बजाय अागे बढ़ाए जाने की संभावना है। 


इंदौर-इच्छापुर हाईवे की हालत भी खराब 
मेडिकल कॉलेज खंडवा में सुविधाओं की कमी का आंकलन प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राओं ने विकास के आधार पर कर रहे हैं। प्रवेश समिति के प्राध्यापकों ने बताया विद्यार्थी कॉलेज में प्रवेश लेने के बाद यहां इसलिए नहीं रहना चाहते हैं कि सबसे पास के शहर इंदौर के लिए संपर्क मार्ग बेहतर नहीं है। इंदौर को खंडवा से जोड़ने वाली एक मात्र सड़क इच्छापुर हाइवे की हालत खराब है। वहीं खंडवा-इंदौर ब्रॉडगेज रेल लाइन का काम अभी अधर में अटका हुआ है। 


 

कॉलेज के एमबीबीएस कोर्स में पहले चरण में स्टेट के 97 में 94 एवं एआई कोटे से 18 में 16 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया। इसमें से 66 विद्यार्थियों ने खंडवा कॉलेज की बजाय अन्य मेडिकल कॉलेज में अपग्रेड होने का विकल्प भरा है।

डॉ.एसके दादू, डीन, मेडिकल कॉलेज 

 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप सभी कार्यों को बेहतरीन तरीके से पूरा करने में सक्षम रहेंगे। आप की दबी हुई कोई प्रतिभा लोगों के समक्ष उजागर होगी। जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। घर की सुख-स...

और पढ़ें