• Hindi News
  • Mp
  • Khargon
  • Khargon News mp news legislator raised demand to open government college in tribal area till cm higher education department did not reach proposal even after 4 months

सीएम तक आदिवासी क्षेत्र में सरकारी कॉलेज खोलने की विधायक ने मांग बढ़ाई, 4 माह बाद भी उच्चशिक्षा विभाग नहीं पहुंचा प्रस्ताव

Khargon News - जिले में पीजी कॉलेज में प्रवेश पाने से हर साल करीब 1500 विद्यार्थी वंचित रह जाते हैं। समस्या को लेकर सालभर हंगामा...

Oct 10, 2019, 08:20 AM IST
जिले में पीजी कॉलेज में प्रवेश पाने से हर साल करीब 1500 विद्यार्थी वंचित रह जाते हैं। समस्या को लेकर सालभर हंगामा होता है लेकिन समस्या का कोई हल नहीं निकल रहा है। विधानसभा चुनाव में आदिवासी क्षेत्र में नए कॉलेज खोलने के वादे विधायकाें ने किए हैं, लेकिन उनका एक भी प्रस्ताव उच्च शिक्षा विभाग तक नहीं पहुंचा है। भगवानपुरा विधायक केदार डाबर ने चुनाव के बाद ही मुख्यमंत्री कमलनाथ को चिट्‌ठी लिखी है।

उन्होंने अन्य क्षेत्र की अन्य समस्याओं के साथ सीएम को मुलाकात में जोर देकर बताया भी है। चार माह से ज्यादा समय हो गया है। बात अभी तक आगे नहीं बढ़ पाई है। वजह शासन स्तर पर मामला अटका है। उच्च शिक्षा विभाग के अतिरिक्त संचालक रमेश जाटवा ने कहा विभाग के पास खरगोन जिले में नया कॉलेज खोलने संबंधी कोई प्रस्ताव नहीं आया। प्रवेश नहीं ले पाने वाले आदिवासी क्षेत्र के 30 फीसदी से ज्यादा विद्यार्थी प्राइवेट कॉलेजों में पढ़ते हैं या पढ़ाई छोड़ने को मजबूर हैं। हरसाल पीजी कॉलेज में सीट बढ़ाने को लेकर छात्र संगठन भी आंदोलन करते हैं लेकिन समस्या का स्थायी समाधान जनप्रतिनिधि खोज पा रहे हैं न संगठन। प्रवेश के समय आंदोलन होते हैं। 20 प्रतिशत सीट बढ़ा दी जाती है। अगले साल फिर वहीं समस्या सामने होती है। छात्र युवराज सोलंकी का कहना है तहसील मुख्यालय पर कॉलेज नहीं है। आदिवासी क्षेत्र झिरन्या, सेगांव व भगवानपुरा क्षेत्र के हजारों विद्यार्थी जिला मुख्यालय आते हैं। पीजी कॉलेज में प्रवेश मिलना मुश्किल होता है।




4 ब्लॉक में कॉलेज नहीं होने से पीजी कॉलेज में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ जाती है।

इसलिए जरूरी : हरसाल 12 हजार विद्यार्थी पास करते हैं 12वीं

जिले से हरसाल कक्षा 12वीं 12 हजार विद्यार्थी से ज्यादा विद्यार्थी पास हो रहे हैं। बावजूद ज्यादातार को जिले के स्थानीय कॉलेजों में प्रवेश नहीं मिल पाता है। नए कॉलेज खुलने से सभी विद्यार्थियांे को प्रवेश मिल सकेगा। अब तक उच्चशिक्षा विभाग के पास कोई प्रस्ताव नहीं पहुंचने से आगामी दो साल तक कोई नया कॉलेज जिले में नहीं खुल सकता। यदि आने वाले दिनों में भी जनप्रतनिधि गंभीरता से नए कॉलेज के लिए प्रस्ताव बनाकर उच्चशिक्षा विभाग के पास पहुंचाते हैं तो कार्रवाई शुरू होने में ही दो साल का समय लग जाएगा।

उच्च शिक्षा की स्थिति

5800

कुल विद्यार्थी कॉलेज में

12573

विद्यार्थी 12वीं उत्तीर्ण हुए थे

04

ब्लॉक मंे नहीं है कॉलेज

जानिए... कैसी है उच्च शिक्षा की स्थित

जिले के चार ब्लॉक झिरन्या, भगवानपुरा, सेगांव और गोगावां में कॉलेज नहीं है। जबकि बड़वाह, मंडलेश्वर में एमएससी में स्नातकोत्तर की सुविधा नहीं है। भीकनगांव में वाणिज्य और कसरावद में विज्ञान संकाय की पढ़ाई नहीं होती है। इसलिए पीजी कॉलेज में ही भीड़ लगती है।

विद्यार्थियाें की यह है परेशानी


छात्रहित में करेंगे आंदोलन


सीएम को अवगत कराया है : विधायक


नहीं आया प्रस्ताव : उच्च शिक्षा विभाग


6 हजार किताबें पहुंची कॉलेज, आरक्षित वर्ग को मिलेंगी

पीजी कॉलेज में अनुसूचित जाति व जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को नि:शुल्क मिलने वाले किताबें कॉलेज पहुंच गई है। जल्द ही इनका वितरण शुरू होगा। ग्रंथपाल महेश कुमार गोयल ने बताया द्वितीय वर्ष व मास्टर डिग्री की किताबें मिल गई है। प्रथम व तृतीय वर्ष के विद्यार्थियों की किताबें आना बाकी है। फिलहाल 6000 किताबें मिली हैं। अभी और करीब 12 हजार किताबें आना बाकी है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना