तीसरे दिन बड़वाह पहुंचे पंचक्रोशी यात्री, मुख्य मार्ग और चौराहे पर हुआ स्वागत

Khargon News - आधी यात्रा पूरी कर ली है आधी और बाकी है। न चेहरे पर थकान और न ही माथे पर सूरज की तपन की कोई शिकन। आस्था को लाठी और...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 06:35 AM IST
Badwah News - mp news panchakroshi passenger reached barwah on the third day welcomed on the main road and crossroads
आधी यात्रा पूरी कर ली है आधी और बाकी है। न चेहरे पर थकान और न ही माथे पर सूरज की तपन की कोई शिकन। आस्था को लाठी और श्रद्धा को अपनी हिम्मत बनाकर दुर्गम रास्तों पर आगे बढ़ते जा रहे हैं। उनकी तेज चाल जैसे कह रही हो रुकना नहीं है थकना नहीं है। अभी और दूर जाना है। नर्मदा माई जो परीक्षा हमारी ले रही है। उसमें अव्वल हमें आना है।

करीब 75 किमी लंबी 44वीं लघु नर्मदा पंचक्रोशी यात्रा तीसरे दिन नगर पहुंची। हजारों श्रद्धालु रविवार बड़वाह पहुंच चुके हैं। जबकि कई श्रद्धालु अगले पड़ाव के लिए महोदरी रवाना हो गए। शेष ने रात्रि विश्राम नगर में किया। यात्रा में आस्था के साथ रिश्तों का मजबूत ताना-बाना भी नजर आया। कोई नि:स्वार्थ तो कोई अपने परिवारजनों की सुख-समृद्धि के लिए दुर्गम यात्रा कर रहा है। नगर में विभिन्न स्थानों पर यात्रियों ने रात्रि विश्राम किया। कई जगह पर श्रद्धालुओं के लिए चाय, परमल, पोहे व भंडारा प्रसादी का आयोजन हुआ। महावीर कालोनी में भंडारे के दौरान सांप्रदायिक सौहार्द का भाव देखने को मिला। कॉलोनीवासियों ने जनसहयोग से आयोजित हुए इस भंडारे में कालोनी के ही मुस्लिम समाजजनों ने भी सहयोग दिया। एसडीएम मिलिंद ढोके ने बताया शुक्रवार, शनिवार और रविवार को तीनों दिन करीब 30 हजार श्रद्धालु टोकसर से नाव से पार हुए। रविवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालु बड़वाह पहुंचे।

मंडी परिसर में विश्राम करते पंचक्रोशी यात्री।

प|ी, बेटे और 3 पोते-पोतियों को लेकर यात्रा पर निकले दादा निर्भयसिंह

ससलिया निवासी निर्भयसिंह अपनी प|ी, बेटे व 3 पोते-पोतियों के साथ यात्रा कर रहे हैं। उन्होंने बताया बेटे रवि के यहां दो लड़कियां हुई थी। लड़के के लिए नर्मदा माई के दर्शन किए और एक साल पंचक्रोशी करने की मन्नत मांगी तो इसके बाद बेटा हुआ। मन्नत उतारने के लिए 4 वर्षीय युवराज, 8 वर्षीय मुस्कान, 6 वर्षीय जानवी व भांजी साजना, शिवानी के साथ प|ी केशरबाई व बेटे रवि को लेकर यात्रा कर रहे हैं। ग्राम मोहनबडोदिया जिला शाजापुर से 7 वर्षीय गुंजन व 10 वर्षीय मुस्कान अपनी दादियों के साथ पंचक्रोशी यात्रा में आए। दादी रुखमनीबाई, सुमनबाई ने बताया दो साल से पंचक्रोशी यात्रा में आ रहे हैं। इस बार बेटी की बालिकाओं ने भी यात्रा में आने के लिए जिद की। इसके लिए हम पंचक्रोशी यात्रा उनके साथ कर रहे हैं। श्री सिया मानव सेवा संस्था के सदस्यों ने कृषि उपज मंडी में पंचकोशी यात्रा में आए श्रद्धालुओं के पैर की मालिश की।

पोता-पोतियों को लेकर यात्रा पर आए निर्भयसिंह।

घर-घर बच्चों ने पिलाया पानी

सेवाभावना की अनूठी मिसाल बावड़ीखेड़ा में देखने को मिली। पूरे मार्ग पर बच्चों ने अपने घर के ओटले पर बैठकर गुजरने वाले यात्रियों को पानी पिलाया। ये नजारा गांव के लगभग प्रत्येक घर का था। सेमरला घाट व कृषि उपज मंडी पर स्वास्थ्य विभाग ने मेडिकल कैंप लगाया। सोमवार को श्रद्धालु यात्रा के अगले पड़ाव महोदरी व सिद्धवरकूट के लिए रवाना होंगे। महोदरी आश्रम में रविवार को भी भक्तों ने भंडारा प्रसादी बांटी। वहीं सोमवार को भी भंडारे का आयोजन किया जाएगा।

Badwah News - mp news panchakroshi passenger reached barwah on the third day welcomed on the main road and crossroads
X
Badwah News - mp news panchakroshi passenger reached barwah on the third day welcomed on the main road and crossroads
Badwah News - mp news panchakroshi passenger reached barwah on the third day welcomed on the main road and crossroads
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना