पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Khargon News Mp News Rally Out Said The Government Did Not Give A Single Promotion In 35 Years

रैली निकाली, बोले- सरकार ने 35 साल में एक भी पदोन्नति नहीं दी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मध्यप्रदेश शिक्षक संघ ने बुधवार शाम 4.45 बजे टेगौर पार्क से कलेक्टोरेट तक रैली निकाली। बारिश के कारण शिक्षक छाता लेकर निकले। संघ ने कहा शिक्षक संवर्ग को 35 वर्ष की सतत सेवा में पदोन्नति का लाभ एक बार भी नहीं मिला है।

इससे हम अपमानित महसूस कर रहे हैं। पदोन्नति के बदले वचन पत्र में वर्तमान सरकार ने पदनाम देने का वादा किया था, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं की। इसको लेकर मुख्यमंत्री के नाम डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर संघ के प्रांतीय सह-संघठन मंत्री हीरालाल तिरोले, बाबूलाल राठौर, जगदीश भावसार, बीएन सोनी, महेश सैते, राजेंद्र हिरवे, निशिकांत लोमटे, दिलीप दुबे, राजेंद्र शर्मा आिद मौजूद थे।

ये भी मांगें रखी

प्रधानपाठक को हाईस्कूल का प्राचार्य बनाए

अधिकारी शिक्षा में नया प्रयोग करते हैं, इसे बचाने के लिए स्वतन्त्र शालेय शिक्षा आयोग का गठन हो

हाईस्कूल में पूर्ववत यूडीटी व माध्यमिक शिक्षक वाली पद संरचना का आदेश जारी करें

व्याख्याताओं को 5400, 6600, 7600 ग्रेड पे दें

शिक्षकों को 3% गृह भाड़ा, चिकित्सा, अनुसूचित क्षेत्र भत्ता मिले।

बारिश के बीच छाता लेकर टेगौर पार्क से कलेक्टोरेट तक पहुंचे

शिक्षक संघ ने मांगों को लेकर रैली निकाली।

पदनाम देने से खाली पदांे पर होगी नियुक्त

संघ के जिलाध्यक्ष रमेशचन्द्र पाटीदार ने कहा सहायक शिक्षक, शिक्षक, प्रधानपाठक, व्यख्याताओं को अपने पद से तीन पद ऊपर का क्रमोन्नत वेतन मिल रहा है, इसलिए इन्हें पदनाम देने में सरकार को एक रुपए का खर्च भी नहीं आ रहा है। दूसरी ओर स्कूलों में पद खाली हैं। ये सभी शिक्षक स्नातकोत्तर योग्यताधारी है। सरकार अपग्रेड कर पदनाम देती है, सभी की नियुक्त होगी। शिक्षा सेवा-शर्तों में नवीन शिक्षक संवर्ग को पेंशन व ग्रेज्युटी का लाभ देना था। संघ प्रदेशअध्यक्ष लछीराम इंगले ने कहा हमारी मांगे सरकार के वादे के अनुरूप और जायज है। हमारी मांगें नहीं मानी तो अगस्त के अंतिम में भोपाल में प्रदर्शन करंेगे।

बलवाड़ा के प्रभारी प्रधानाध्यापक सस्पेंड

खरगोन |
उमावि बलवाड़ा के प्रभारी प्रधानाध्यापक कुलदीप धाकड़ को सस्पेंड कर दिया। डीईओ केके डोंगरे ने बताया 1 अगस्त को आकस्मिक निरीक्षण में सुबह 11.25 बजे प्रभारी प्रधानाध्यापक धाकड़ मूल पद माध्यमिक शिक्षक संस्था से बिना सूचना के अनुपस्थित थे। वे 11.55 शाला में उपस्थित हुए। बच्चों उपस्थिति भी दर्ज की तुलना में कम पाई गई। दक्षता उन्नयन की गतिविधियों का संचालन भी नहीं मिला। ग्रामीण जनप्रतिनिधियों ने भी अनुपस्थिति की शिकायत की थी। उसके बाद कलेक्टर गोपालचंद्र डाड ने कार्रवाई की।

खबरें और भी हैं...