संगोष्ठी... हमारा पेट कोई श्मशान नहीं जिसमें मृत जीवों को दफनाया जाए

Khargon News - मनुष्य जीवन का मुख्य लक्ष्य आत्म निर्माण होना चाहिए। आत्म निर्माण का साधन शराब व मांस का सेवन नहीं बल्कि...

Dec 04, 2019, 10:21 AM IST
Sanavad News - mp news seminar our stomach is not a crematorium in which dead organisms are buried
मनुष्य जीवन का मुख्य लक्ष्य आत्म निर्माण होना चाहिए। आत्म निर्माण का साधन शराब व मांस का सेवन नहीं बल्कि स्वाध्याय व सत्संग है। शराब व मांस भक्षण करने से व्यक्ति, परिवार व समाज बर्बाद हो जाते हैं। ग्राम सगड़िया में सर्वसमाज की संगोष्ठी में सेवानिवृत्त सहायक संचालक आशाराम आवासे ने यह बात कही कहा। उन्होंने कहा हमारा पेट कोई श्मशान घाट नहीं है। जिसमें मृत जीव-जंतुओं को दफनाया जाए। गायत्री परिवार के मीडिया प्रभारी महेंद्रसिंह पंवार ने कहा शिक्षा व संस्कार व्यक्ति, परिवार, समाज व ग्राम के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ग्राम के बुजुर्ग ग्राम की धरोहर व बच्चे राष्ट्र के कर्णधार होते हैं। उम्मेदसिंह सोलंकी ने समाज में व्याप्त कुरीतियों, अनावश्यक परंपराओं के बारे में बताते हुए कहा आध्यात्मिक व वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपनाने से ही समाज का भला हो सकता है। ध्यानसिंह मंडलोई ने पौधारोपण, स्वच्छता पर ध्यान देने की बात कही। दुष्वृत्तियों के उन्मूलन व सत्प्रवृत्तियों के प्रचार-प्रसार के लिए युवा मंडल की 16 सदस्यों की समिति का गठन किया गया। इसमें अध्यक्ष खुमानसिंह बमनके व उपाध्यक्ष डॉ. सोहनसिंह चौहान को नियुक्त किया। इस दौरान बालकराम रावत, दशरथसिंह सोलंकी, रमेशचंद ठाकुर, डाकुरसिंह चौहान, पप्पूसिंह झाला, मनोहरसिंह झाला, पन्नालाल चौहान, जितेंद्र, महिला मंडल, स्वाध्याय मंडल, संस्कार शाला के बच्चे व ग्रामीण मौजूद थे।

संगोष्ठी में शामिल समाजजन व गायत्री परिजन।

X
Sanavad News - mp news seminar our stomach is not a crematorium in which dead organisms are buried
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना