• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Khategaun News
  • स्टाॅफ नर्स के लिए आवंटित क्वार्टर में रह रहे हैं वार्ड बॉय, प्यून और ड्राइवर
--Advertisement--

स्टाॅफ नर्स के लिए आवंटित क्वार्टर में रह रहे हैं वार्ड बॉय, प्यून और ड्राइवर

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खातेगांव में स्टॉफ नर्स के पद पर कार्यरत ममता पटेल अपनी सात माह की बिटिया के साथ...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:00 AM IST
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खातेगांव में स्टॉफ नर्स के पद पर कार्यरत ममता पटेल अपनी सात माह की बिटिया के साथ अस्पताल से दूर किराए के मकान में रहने को विवश हैं। जबकि खातेगांव में स्वास्थ्य विभाग के अधीनस्थ आने वाले 24 में से 2 क्वार्टर 2 स्टॉफ नर्स के लिए आवंटित हैं। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि 2011 से ये दोनों क्वार्टर वार्ड बॉय, प्यून, ड्राइवर उपयोग में ले रहे हैं।

नर्स ममता पटेल 10 अक्टूबर 2013 से कार्यरत हैं। जैसे-तैसे अप्रैल 2017 में एक क्वार्टर दिया गया, लेकिन वो भी जनवरी में खाली करवा लिया गया। उसके बाद से फिर स्वास्थ्य केंद्र से दूर किराए के मकान में रहने को विवश है। स्टॉफ नर्स होने के कारण उन्हें बार-बार अस्पताल आना पड़ता है। रात में भी किसी इमरजेंसी के दौरान अस्पताल आना पड़ता है। ऐसे में सात माह की छोटीसी बिटिया के साथ रात को आने-जाने में बहुत मुश्किल होती है। ममता पटेल ने इस बारे में बीएमओ और सीएमएचओ को भी कई बार अवगत कराया लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं निकला।

एडीपीओ का भी अनधिकृत कब्जा

जानकारी के मुताबिक आरसीएच, एनएचएम सहित संविदा कर्मचारियों को अनधिकृत रूप से स्वास्थ्य विभाग के क्वार्टर आवंटित कर दिए गए हैं। यहां तक कि न्याय विभाग के एडीपीओ अक्टूबर 2016 से बिना अनुमति एक क्वार्टर पर कब्जा जमाए हुए हैं।

आवेदन आने पर विचार करेंगे

देवास सीएमएचओ डॉ. एसके सरल ने कहा यदि बीएमओ नर्स का आवेदन भेजेंगे तो उस पर विचार किया जाएगा।

महासंघ करेगा कलेक्टर से चर्चा

मामले में मप्र अधिकारी कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष जेपीएस तोमर का कहना है कि स्टॉफ नर्स का स्वास्थ्य केन्द्र में महत्वपूर्ण दायित्व होता है। उसे दिन-रात तथा इमरजेंसी ड्यूटी भी करना पड़ती है। ऐसी स्थिति में स्टाफ नर्स के लिए आवास गृह निर्मित होने के बावजूद ममता पटेल को आवास गृह आवंटित नहीं करना खेदजनक है। महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने वाले संस्थान में महिला उत्पीड़न का संघ विरोध करता है। हम देवास कलेक्टर को इस बारे में अवगत कराकर ममता पटेल को तत्काल आवासगृह आवंटित करने का आग्रह करेंगे।