--Advertisement--

नदियों में बनाएंगे स्टापडेम व कुओं को करेंगे साफ

हनुमान मंदिर में बैठक में चर्चा करते किसान व नगरवासी। भास्कर संवाददाता | खेतिया नगर के हनुमान मंदिर में...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:50 AM IST
हनुमान मंदिर में बैठक में चर्चा करते किसान व नगरवासी।

भास्कर संवाददाता | खेतिया

नगर के हनुमान मंदिर में किसानों व नगरवासियों ने एक बैठक का आयोजन किया। इसमें नगर सहित क्षेत्र में बढ़ते जल संकट व जल संग्रहण को लेकर चर्चा कर रूप रेखा बनाई गई। साथ ही सभी ने अपने-अपने सुझाव देकर इस परिस्थिति ने निपटने के रास्ते बताए। बैठक में भूमिगत जल स्तर कम होने से होने वाले नुकसान पर चिंतन किया गया। साथ ही आने वाली बारिश में पानी को किस तरह से संजोया जाए इस पर विचार कर रूप रेखा तैयार की गई है।

ज्ञात हो नगर के लगभग सभी नागरिक कृषि पर निर्भर हैं। वर्तमान में प्रतिदिन किसी न किसी बोरिंग व ट्यूबवैल में पानी खत्म होने की चर्चा क्षेत्र में हो रही है। दिन प्रतिदिन जल संकट से किसानों का चिंता बढ़ती जा रही है। सभी किसानों को उनके ट्यूबवैल सूखने की चिंता सता रही है। बैठक में चर्चा कर किसानों व नगरवासियों ने निर्णय लिया है कि बारिश से पहले क्षेत्र में नदी व नालों पर स्टाप डेम बनाए जाएंगे, ताकि भूमिगत जल स्तर को ऊपर किया जा सके। साथ ही स्टाप डेम में रुके हुए पानी का उपयोग कर फसलों की सिंचाई की जाएगी। साथ ही गर्मी में जलसंकट से निपटने के लिए कुओं की गाद निकलकर इन्हें गहरा किया जाएगा ताकि पीने के पानी की पूर्ति की जा सके। बैठक में बताया कि क्षेत्र के सबसे बड़े जलस्रोत जल्यापानी डेम की गाद निकालकर पानी संग्रहण क्षमता बढ़ाने का निर्णय लिया गया। इस दौरान हीरालाल येसीकर, लाला सोनिस, कौशिक पटेल, संजय निकुंभ, मोहन पटेल, दिनेश येसीकर, किसान येसीकर, मोहन निकुंभ, श्रीचंद सकरू, रविंद्र पटेल, नाना चौधरी, श्याम हरसोला, जैकी, विजय येसीकर, अर्जुन मगर, प्रभाकर मराठे, मनीष लकडे, मनोहर महाले, रघुनाथ कोते, बृजेश हरसोला मौजूद थे।

श्याम हरसोला ने बताया बैठक में तय हुए सभी निर्णयों को जमीन पर उतारने के लिए किसानों का प्रतिनिधि मंडल शासन प्रशासन से मिलकर मांग करेगा कि जल स्तर बढ़ाने के लिए सभी प्रयासों में उचित सहयोग करें।