• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Khurai
  • अभी 5.5 मीटर चौड़ा है यह रोड, मंडी के कारण हैवी ट्रैफिक गुजरता है यहां से
--Advertisement--

अभी 5.5 मीटर चौड़ा है यह रोड, मंडी के कारण हैवी ट्रैफिक गुजरता है यहां से

तीन नेशनल हाईवे को जोड़ने वाला सागर (भैंसा)बायपास रोड की चौड़ाई लगभग दोगुनी हो जाएगी। 6.4 किमी लंबा यह रोड अभी 5.5 मीटर...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:00 AM IST
तीन नेशनल हाईवे को जोड़ने वाला सागर (भैंसा)बायपास रोड की चौड़ाई लगभग दोगुनी हो जाएगी। 6.4 किमी लंबा यह रोड अभी 5.5 मीटर चौड़ा है। जल्द ही इसे 10 मीटर चौड़ा बनाया जाएगा।

इसके लिए प्रदेश सरकार ने बजट में 13 करोड़ की राशि का प्रावधान कर दिया है। पीडब्ल्यूडी इस रोड को चौड़ा करेगा। दोनों तरफ पाथवे का भी प्रस्ताव है। सागर-झांसी एनएच 26 से भैंसा, पगारा गांव होते हुए सागर कृषि मंडी के बाजू से खुरई-बीना एनएच 26 ए से होता हुआ अमावनी, बम्होरी रेलवे क्रॉसिंग से यह बायपास सीधा सागर- भोपाल एनएच 86 (एक्सटेंशन) से जुड़ता है।

पीडब्ल्यूडी के ईई अविनाश शिवरिया ने बताया कि रोड लगभग 33 फीट चौड़ा हो जाएगा। डामरीकरण होगा। दोनों तरफ 3-3 फीट का पाथवे भी बनेगा। जहां जरूरी होगा वहां पुलिया भी बनाएंगे। बजट जारी होने के साथ ही टेंडर प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

भोपाल, खुरई व झांसी हाईवे को जोड़ने वाला 6.4 किमी सागर बायपास रोड 10 मीटर चौड़ा होगा

रोड संकरी और हैवी वाहनों का था दबाव

इस बायपास के चौड़ीकरण से शहर के अंदर ट्रैफिक का दबाव कम हो जाएगा। नरयावली विधायक प्रदीप लारिया का कहना है कि रोड काफी संकरी थी, जबकि यहां से हैवी वाहनों की आवाजाही थी। सदर झांसी रोड से वाहन भोपाल रोड के लिए यहां से गुजरते हैं। रोड अब पर्याप्त चौड़ा और अच्छा बन जाएगा। बजट में सरकार ने 13 करोड़ की राशि का प्रावधान भी कर दिया है।

3 विधानसभा क्षेत्रों को जोड़ने वाले बायपास को मंजूरी जल्द : लंबे समय से प्रस्तावित सागर-भोपाल बायपास रोड के लिए अलाइनमेंट तय होने के बाद केंद्र के भूतल परिवहन विभाग से जल्द ही सेंशन मिलने की उम्मीद है। 21.532 किमी लंबा रोड भापेल से नरयावली होते हुए रानीपुरा फोरलेन तक बनेगा। इससे तीन नेशनल हाईवे और तीन विधानसभा सागर, सुरखी व नरयावली सीधे जुड़ेंगे। बायपास के बीच नरयावली स्टेशन के पास एक आरओबी भी प्रस्तावित है। शहर विधायक शैलेंद्र जैन का कहना है कि नए वित्तीय वर्ष में इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट को केंद्र से हरीझंडी मिल सकती है।