• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Kukshi News
  • बंद रहे निसरपुर समेत डूब क्षेत्र के गांव, बसें रोक कर की डायवर्ट
--Advertisement--

बंद रहे निसरपुर समेत डूब क्षेत्र के गांव, बसें रोक कर की डायवर्ट

सरदार सरोवर प्रभावित गांवों में बस सेवा बंद होने से आक्रोशित ग्रामीणों ने बुधवार को प्रदर्शन किया। निसरपुर,...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:55 AM IST
सरदार सरोवर प्रभावित गांवों में बस सेवा बंद होने से आक्रोशित ग्रामीणों ने बुधवार को प्रदर्शन किया। निसरपुर, गणपुर चौकड़ी से बसों को रोककर गांवों की ओर डायवर्ट किया। निसरपुर समेत डूब क्षेत्र के गांव बंद रहे। प्रशासन की तरफ से कोई आश्वासन नहीं मिलने से रात तक धरना जारी था।

प्रदर्शन में नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर भी पहुंची। बस चालकों को पूर्व मार्ग पर आने जाने की समझाइश देने डूब गांव के लोग पहुंचे। डूब गांव के लोगों ने व व्यापारियों ने यात्री बसों को डूब गांव के मार्ग से निकालने के लिए 1 माह पूर्व लिखित प्रशासनिक अधिकारी अनुभाग कुक्षी को कलेक्टर के नाम ज्ञापन देकर अवगत कराया गया था लेकिन समस्या का कोई निराकरण नहीं निकलने से डूब गांव व्यापारियों व ग्रामीणों ने पुनः 1 दिन पूर्व मार्ग से बसों का आवागमन शुरू करने के लिए आवेदन दिया था लेकिन निराकरण नहीं हुआ। इसी के चलते निसरपुर, चिखल्दा, कडमाल व आसपास के डूब ग्रामो ने नगर बंद कर गणपुर चौकड़ी व भंवरिया के समीप भिलसुरफाटे बायपास पहुंचकर बसों को पूर्व मार्ग पर आने जाने के लिए गांधीवादी तरीका अपना कर बस चालको व परिचालकों प्रेमपूर्वक पूर्व मार्ग से यात्री बस आने जाने के लिए समझाइश दी गई। वही मेधा पाटकर गणपुर चौराहा व सुबह भिलसुर फाटे पर पहुचे वही आधे घंटे के बाद क्षेत्रीय विधायक सुरेंद्र सिंह हनी बघेल भी पहुचे ओर वहां पर प्रशासनिक अधिकारी ड्यूटी पर सुरक्षा की दृष्टि से उपस्थित नायब तहसीलदार रामअवतार औझा से क्षेत्रीय विधायक ने चर्चा की वर्तमान समय परीक्षाओं का चल रहा है वही यात्री बसों का डूब गाव निसरपुर, कडमाल, चिखल्दा,से मार्ग परिवर्तन किया गया था जिससे कडमाल, चिखल्दा निसरपुर और देहाती क्षेत्र के गांव से संपर्क टूट जाने के कारण डूब से बाहर किए रहवासियों को खासकर महिलाएं व स्कूली छात्र छात्राओं को कई मिलो तक पैदल चलकर परीक्षा देने के लिए स्कूल जाना पड़ रहा है वही महिलाओं बालिकाओं के साथ कभी भी अनचाही घटना होने का डर भी बना रहता है

गांव बंद कर विरोध किया

बसों को पूर्व मार्ग पर जाने के लिए डूब गांव के ग्रामीण वह नर्मदा बचाओ आंदोलन के कार्यकर्ताओं ने गणपुर चौकड़ी वह भिलसुर फाटे पर दो जगह उपस्थित होकर बड़वानी से कुक्षी आने जाने वाली बसों के चालको को समझाइश दी व पूर्व मार्ग पर ना आने के कारण निसरपुर ,चिखल्दा, कडमाल आदि डूब के गांव ने अपना व्यापार व्यवसाय बंद कर संपूर्ण गांव बंद कर विरोध किया गया।

सरदार सरोवर प्रभावित गांवों में बस सेवा होने से नाजार ग्रामीणों ने बसें रोकी।