--Advertisement--

मानव को श्रीराम कथा से सीखना होगा : पं. शर्मा

मानव को श्रीराम कथा से सीखना होगा : पं. शर्मा कुक्षी| समीप गांव नर्मदानगर में क्षत्रिय सिर्वी समाज के तत्वावधान...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 03:00 AM IST
मानव को श्रीराम कथा से सीखना होगा : पं. शर्मा

कुक्षी| समीप गांव नर्मदानगर में क्षत्रिय सिर्वी समाज के तत्वावधान में आयोजित श्रीमद्भागवत कथा में पं. राजेश्वरजी शर्मा विद्याधाम इंदौर ने कहा कि मृत्यु से डरने कि बजाय उसे हमें सफल बनाना चाहिए इस संसार में परमात्मा के सिवाय कुछ भी सत्य नहीं है। परमात्मा हमेशा से सत्य थे, सत्य है और हमेशा सत्य रहेंगे। मानव को श्रीराम कथा से जीना सीखना होगा। श्रीरामकथा हमें जीना सिखाती है। महोत्सव में भगवान का विवाह उत्सव भी मनाया गया।

मां बच्चे की पहली पाठशाला है- पं. द्विवेदी

मनावर| मां चाहे तो अपनी संतान को राम बना सकती है और वह चाहे तो रावण भी बना सकती है। संस्कार दोनों मां के हाथ में है। मां बच्चे की पहली पाठशाला है। पाप करने वाला व्यक्ति अशांत रहता है और पुण्य करने वाला व्यक्ति शांत रहता है। यह बात भागवत सप्ताह के छठे दिन पं. राजेंद्र द्विवेदी ने कुशवाह समाज धर्मशाला में भागवत कथा के दौरान कही।