--Advertisement--

शिक्षा जीवन की आवश्यकताओं में से एक है

Kukshi News - अखिल भारतीय सत्साहित्य परिषद तहसील शाखा कुक्षी के तत्वावधान में शासकीय व अशासकीय विद्यालयों के प्रतिनिधि...

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 03:55 AM IST
शिक्षा जीवन की आवश्यकताओं में से एक है
अखिल भारतीय सत्साहित्य परिषद तहसील शाखा कुक्षी के तत्वावधान में शासकीय व अशासकीय विद्यालयों के प्रतिनिधि शिक्षकों के साथ शिक्षा, समाज और साहित्य विषय पर परिचर्चा का आयोजन कन्याशाला के सभागृह में किया गया।

अध्यक्षता परिषद के परामर्शदाता महेश चतुर्वेदी प्राचार्य द्वारा की गई। परिषद के अध्यक्ष मनोज साधु, महामंत्री रवीन्द्र जैन, कोषाध्यक्ष भूपेन्द्र वर्मा, मंत्री दीपक शर्मा, अध्यापक नीतेश गोयल, अनिल पाण्डेय, के साथ अमृता जोशी, सुनीता पाटीदार, दीपिका सोनी, राखी भावसार, भावना दासौंधी, माधुरी सोनी, स्वप्निल तंवर, प्रियंका गुप्ता, गोपाल मालवीय, नानूराम धनगर, भूपेन्द्र मंडलोई ने परिचर्चा में भाग लिया। प्राचार्य महेश चतुर्वेदी ने कहा कि शिक्षा जीवन की बुनियादी आवश्यकताओं में से एक है। शिक्षा एक उद्देश्यपूर्ण सामाजिक प्रक्रिया है। महामंत्री रवीन्द्र जैन ने कहा कि शिक्षा, समाज व राष्ट्र के विकास का प्रथम सौपान है। कोषाध्यक्ष भूपेन्द्र वर्मा ने कहा कि समाज का प्रत्येक व्यक्ति शिक्षित व संस्कारित होगा तो राष्ट्र का नवनिर्माण तेजी से हो सकेगा। परिषद के अध्यक्ष मनोज साधु ने कहा कि समाज को शिक्षा की मुख्य धारा जोड़ने के लिए संस्कारित शिक्षा के साथ सत्साहित्य का सृजन करना होगा। समुन्नत समाज की कल्पना को साकार करने के लिए सबके लिए शिक्षा फलदाई सिद्ध हो ऐसी संरचना का निरंतर निर्माण करते रहना होगा। शिक्षा में माता-पिता की भूमिका, परिवार का सकारात्मक सोच, बेटियों के प्रति समाज के सोच में बदलाव व समाज में व्याप्त बुराइयों को रोककर समाज की दशा और दिशा में अपेक्षित सुधार लाया जा सकता है। आभार उद्बोधन मंत्री दीपक शर्मा ने देते हुए कहा कि नारी शक्ति का शिक्षा के प्रति जागरूक होना एक अच्छा संकेत है।

शिक्षा, समाज और सत्साहित्य पर परिचर्चा में अतिथियों ने कहा

कुक्षी. कार्यशाला में शामिल प्राचार्य व शिक्षक।

X
शिक्षा जीवन की आवश्यकताओं में से एक है
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..