• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Maheshvar
  • निमाड़ व मालवा क्षेत्र से आए श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान कर किया सत्तू का दान
--Advertisement--

निमाड़ व मालवा क्षेत्र से आए श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान कर किया सत्तू का दान

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 03:55 AM IST

Maheshvar News - वैशाख कृष्ण पक्ष सोमवती अमावस्या पर श्रद्धालुओं ने नर्मदा में स्नान कर पुण्य लाभ लिया। निमाड़ में यह अमावस्या...

निमाड़ व मालवा क्षेत्र से आए श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान कर किया सत्तू का दान
वैशाख कृष्ण पक्ष सोमवती अमावस्या पर श्रद्धालुओं ने नर्मदा में स्नान कर पुण्य लाभ लिया। निमाड़ में यह अमावस्या सत्तू अमावस्या के नाम से जानी जाती है। इसलिए श्रद्धालुओं ने सत्तू का भी दान किया।

नगर में सुबह से लेकर शाम तक लगभग 10 हजार श्रद्धालुओं ने नर्मदा में स्नान कर पुण्य लाभ लिया। निमाड़ सहित मालवा क्षेत्र से बड़ी संख्या में आए श्रद्धालुओं ने देवालयों-शिवालयों में दर्शन किया। मां नर्मदा भक्त मंडल धामनोद के श्रद्धालुओं ने नर्मदा घाट स्थित नर्मदा मंदिर के सामने भंडारे का आयोजन किया। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भोजन प्रसादी ग्रहण की।

कसरावद | सत्तू अमावस्या पर दो स्थानों पर भंडारे में श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। नावडातौडी नर्मदा तट पर सुबह से ही नर्मदा स्नान करने श्रद्धालु पहुंचे। स्नान कर सूर्यदेव को अर्घ्य दिया। इसके बाद दान पुण्य किया। प्राचीन श्री शालिवाहन शिव मंदिर परिसर में भंडारा हुआ। इसके अलावा बच्ची माई की धर्मशाला में हुए भंडारे में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। इसके अलावा माकड़खेड़ा मर्कटी संगम, भट्याण बुजुर्ग, खल बुजुर्ग गांवों में भीड़ जुटी।

मंडलेश्वर | सत्तू अमावस्या पर नगर के नर्मदा तट पर नगर सहित आसपास के श्रद्धालु बड़ी संख्या में पहुंचे। पानी का स्तर कम होने से श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी भीड़ पर असर नहीं पड़ा। स्नान के बाद लोगों की दान और पूजन करने के लिए मंदिर में भीड़ रही। इस दौरान नगर में पुलिस और नगर परिषद द्वारा सुविधाओं के साथ सुरक्षा व्यवस्था भी संभाली गई।

बड़वाह | सत्तू अमावस्या पर नावघाटखेड़ी स्थित नर्मदा तट पर हजारों श्रद्धालुओं ने नर्मदा में डुबकी लगाई। दोपहर में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने अमावस्या पर नर्मदा स्नान का पुण्य लाभ लिया। स्नान का यह क्रम पूरे दिन चलता रहा। सोमवार को सुबह से ही नर्मदा तट पर श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने लगी। नर्मदा का जल स्तर कम होने के कारण श्रद्धालुओं को पत्थरों के बीच ही स्नान करना पड़ा। पर्व पर वाहनों की आवाजाही के चलते पुलिस की व्यवस्था पहले से बेहतर नजर आई। नगर के विभिन्न पाइंट पर तैनात पुलिसकर्मियों ने आवागमन सुचारू रूप से संचालित किया। घाट पर तैनात महिला व पुरुष पुलिसकर्मियों सहित नगर सुरक्षा समिति के सदस्यों ने घाट पर व्यवस्थाएं संभाली। अमावस्या के चलते खंडवा व इंदौर से आने वाले श्रद्धालुओं के वाहन का दबाव अधिक था।

नर्मदा घाट पर शाम तक श्रद्धालु स्नान करने के लिए पहुंचते रहे।

स्कूल में किया दान

बलकवाड़ा | छात्र राजपालसिंह भगवानसिंह मंडलोई के आकस्मिक निधन पर उनकी स्मृति में पिता भगवानसिंह मंडलोई ने सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बलकवाड़ा श्रीराणा प्रतापसिंह शिक्षा समिति को 5001 रु. की सहयोग राशि दी। शनिवार को अमावस्या पर आचार्य प्रमोद शुक्ला, विजय बर्वे, लखन बर्वे, तरुण पटेल व समिति के व्यवस्थापक शुभम अत्रे उपस्थित थे। 23 अक्टूबर 2017 को राजपालसिंह की गांव के जलाशय में डूबने से मृत्यु हो गई थी।

X
निमाड़ व मालवा क्षेत्र से आए श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान कर किया सत्तू का दान
Astrology

Recommended

Click to listen..