Hindi News »Madhya Pradesh »Mandsour» कृषि मंडी में प्याज की आवक में आई 500 बोरी रोज की कमी

कृषि मंडी में प्याज की आवक में आई 500 बोरी रोज की कमी

कृषि मंडी में नए प्याज की आवक 500 बोरी प्रतिदिन पर सिमट चुकी है। सरकार द्वारा प्याज के लिए 8 रुपए किलो का समर्थन मूल्य...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 05:05 AM IST

कृषि मंडी में प्याज की आवक में आई 500 बोरी रोज की कमी
कृषि मंडी में नए प्याज की आवक 500 बोरी प्रतिदिन पर सिमट चुकी है। सरकार द्वारा प्याज के लिए 8 रुपए किलो का समर्थन मूल्य का फायदा सीमित किसानों को मिल सकेगा। मंदसौर मंडी में फिलहाल प्याज का न्यूनतम भाव 2 रुपए किलो रह गया है। ऐसे में किसानों को कमजोर क्वालिटी वाले माल के 8 रुपए तक मिल सकेंगे।

प्रदेश सरकार ने भावांतर भुगतान योजना में प्याज फसल को शामिल कर लिया है। कैबिनेट की मंजूरी हो चुकी, जल्द आदेश अधिसूचना में तब्दील हाेने के बाद जिलास्तर पर कृषि मंडियों में जल्द पहुंचेगा। 15 से 20 दिन तक का समय लग सकता है। सरकार ने प्याज का न्यूनतम समर्थन मूल्य 8 रुपए किलो तय किया है। महीनेभर पहले मंदसौर मंडी में प्याज की आवक 4500 बोरी तक थी। भाव 800 रुपए से लेकर अधिकतम 3000 रुपए क्विंटल तक थे। बुधवार को मंदसौर मंडी में प्याज की आवक 500 बोरी रही, जो सप्ताहभर से आसपास ही है। भाव लुढ़क चुके हैं। भाव अधिक थे उस वक्त ज्यादातर किसानों ने स्टॉक बेच डाला, बाद में कई ने कम दर पर बेचा। सीमित माल बचा है। तुलनात्मक कम किसानों को ही 8 रुपए किलो का न्यूनतम समर्थन मूल्य मिल सकेगा। बुधवार को मंदसौर मंडी में प्याज के भाव 200 रुपए से लेकर अधिकतम 1291 प्रति क्विंटल तक के स्तर पर रहे थे। कृषि विभाग के उप संचालक अजीतसिंह राठौड़ ने बताया प्याज को भावांतर में शामिल किया है। सॉफ्टवेयर में बदलाव के साथ इसे लागू करने जा रहे हैं। जल्द अमल होगा।

घटी आवक

सरकार ने 8 रुपए किलो न्यूनतम दर तय की, मंडी में फिलहाल न्यूनतम मूल्य 2 रुपए किलो ही, , गिनती के किसानों को मिलेगा ‘समर्थन’

मंदसौर मंडी में प्याज की आवक 500 बोरी पर सीमित रह गई है।

योजना में किसानों को रजिस्ट्रेशन कराना होगा.... भावांतर योजना में किसानों को अन्य फसलों की तरह योजना में लाभ लेने के लिए मंडियों में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। कृषि विभाग मुख्यालय स्तर पर योजना के सॉफ्टवेयर को अपडेट करना शुरू हो चुका है। वैसे किसानों को भाव में तेजी-मंदी के बीच माल बेचने, रोकने को लेकर सहुलियत मिली है। किसान प्याज नहीं बेचना चाहता है तो सरकार उसे प्याज गोदाम में रखने का किराया देगी, मकसद यही है कि किसान की फसल गोदाम में लंबे समय तक सुरक्षित रह सके।

भाव पर एक नजर

दिनांक न्यूनतम अधिकतम

28 फरवरी 200 1291

27 फरवरी 300 1409

23 फरवरी 353 1533

22 फरवरी 500 1522

21 फरवरी 300 1580

20 फरवरी 440 1939

24 जनवरी 500 3001

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Mandsour News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: कृषि मंडी में प्याज की आवक में आई 500 बोरी रोज की कमी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Mandsour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×