Hindi News »Madhya Pradesh »Mandsour» विद्यार्थियों को मिले पुनर्मूल्यांकन सुविधा, तैयार करें स्थायी नीति

विद्यार्थियों को मिले पुनर्मूल्यांकन सुविधा, तैयार करें स्थायी नीति

विवि के रिक्त पद पर नियुक्तियां करने, मूल्यांकन में गड़बडिय़ां रोकने व छात्र हित में पुनर्मूल्यांकन की नीति लागू...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 05:20 AM IST

विद्यार्थियों को मिले पुनर्मूल्यांकन सुविधा, तैयार करें स्थायी नीति
विवि के रिक्त पद पर नियुक्तियां करने, मूल्यांकन में गड़बडिय़ां रोकने व छात्र हित में पुनर्मूल्यांकन की नीति लागू करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर अभाविप ने गुरुवार से चरणबद्ध आंदोलन शुरू किया। गुरुवार को शासकीय कॉलेजों में उच्च शिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन प्राचार्यों को सौंपे। अगले चरण में विश्व विद्यालयों में विरोध प्रदर्शन व घेराव किया जाएगा। मांगें नहीं मानने पर अगस्त में भोपाल में प्रदर्शन किया जाएगा।

अभाविप प्रदेश मंत्री बंटी चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में विवि परीक्षा संचालित करने के मात्र केंद्र बनकर रह गए। एक तरफ हम शिक्षा के गुणवत्ता की बात कर रहे हैं दूसरी ओर देखा जाए तो मप्र के सभी विश्वविद्यालयों में लम्बे समय से रिक्त पद नहीं भरे जा रहे हैं ऐसे शिक्षा में गुणवत्ता कैसे आएगी। विक्रम विवि में शैक्षणिक 161 पदों में से 77 पर ही कर्मचारी है 64 पद रिक्त है। ऐसे में कार्य का डबल भार पड़ रहा है। यही कारण है कि मूल्यांकन में गड़बडिय़ां आती है। उत्तर पुस्तिकाएं देखने पर पता चलता है कि मूल्यांकनकर्ता ने कई उत्तरों की जांच तक नहीं की जाती और विद्यार्थी को फेल कर दिया जाता है।

मांगें नहीं मानने पर अगस्त में भोपाल में प्रदर्शन किया जाएगा

मप्र में पुनर्मूल्यांकन की कोई व्यवस्था नहीं होने से उत्तरपुस्तिकाओं की वापस जांच भी नहीं होती व विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा। प्रदेश में पुनर्मूल्यांकन की नीति बनाई जाना आवश्यक है। ऐसी ही छात्र हित की मांगों को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है। गुरुवार को कॉलेजों में उच्च शिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपे। लीड कॉलेज में ज्ञापन प्राचार्य रवींद्र सोहोनी को सौंपा। मांगें नहीं मानने पर 5 जून को विश्व विद्यालयों में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। इसके बाद अगस्त में भोपाल में आंदोलन किया जाएगा। गुरुवार को विरोध ज्ञापन देते समय मिलिन व्यास, पवन शर्मा, ऋषभ सुखवाल, लोकेश गुर्जर सहित कई विद्यार्थी मौजूद थे।

मांगों को लेकर कॉलेज में प्रदर्शन करते अभाविप कार्यकर्ता, प्राचार्य को सौंपा ज्ञापन।

ये हैं प्रमुख मांगें

विवि में रिक्त पदों पर जल्द नियुक्तियां की जाए। प्रदेश के सभी विवि में पुनर्मूल्यांकन की एक स्थाई नीति बनाई जाएगी। प्रवेश प्रक्रिया को सरक बनाया जाए। सभी शासकीय कॉलेजों में स्थाई प्राचार्य की नियुक्तियां की जाए। सभी विवि में स्थाई खेल निर्देशकों की नियुक्ति की जाए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mandsour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×