‘संजा तू थारे घर जा, थारी बाई मारेगा-कूटेगा, डचका देवेगी’

Mandsour News - पारंपरिक उत्सव के तहत गोबर से संजा बनाती किशोरी। भास्कर संवाददाता | शामगढ़ नगर सहित आसपास गांवों में बच्चों...

Bhaskar News Network

Sep 30, 2019, 09:15 AM IST
Shamgarh News - mp news 39sanja tu thare ghar ja thaari bai marega kootega doucheka devegi39
पारंपरिक उत्सव के तहत गोबर से संजा बनाती किशोरी।

भास्कर संवाददाता | शामगढ़

नगर सहित आसपास गांवों में बच्चों द्वारा संजा बनाई जाती है। गोबर से आकृति देकर उसका शृंगार किया जाता है। बच्चों द्वारा संजा के गीतों से पूजा-अर्चना की जाती है।लघु लोकगीत गाए जाते हैं। अमावस्या के दिन संजा माई को बच्चों ने संजा तू थारे घर जा, थारी बाई मारेगा-कूटेगा, डेली डचका देवेगी गीत गाकर विदाई दी। नगर की सफलता कुंवर, राजनंदनी, मुस्कान, उषा, रेणुका, चेल्सी, रानू, चीनू सहित बालिकाओं ने गीत गाए। इसमें कहा कि फटफटी वाले संध्या को बैठा ले, ले जा अहमदाबाद किराया क्या लेगा। संध्या की आरती, संध्या को फूलडो, यो कुल गोरों, डालीचंद को बाप आदि गीत गाए।

X
Shamgarh News - mp news 39sanja tu thare ghar ja thaari bai marega kootega doucheka devegi39
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना