• Hindi News
  • Mp
  • Mandsour
  • Mandsour News mp news deadline of cm ends no amount received collector said only relief of crops left

सीएम की डेडलाइन खत्म, नहीं मिली राशि, कलेक्टर बोले-फसलों की राहत ही बाकी

Mandsour News - 14 सितंबर की बाढ़ ने 29 हजार मकानों काे जमींदोज कर दिया। फसलें पूरी तरह चौपट हो गई तो बाढ़ के हालात राजनीतिक...

Oct 16, 2019, 08:36 AM IST
14 सितंबर की बाढ़ ने 29 हजार मकानों काे जमींदोज कर दिया। फसलें पूरी तरह चौपट हो गई तो बाढ़ के हालात राजनीतिक प्रतिद्वंद्वता में बदल गए। सीएम कमलनाथ ने 23 सितंबर को कयामपुर में मंच से 15 अक्टूबर तक प्रभावितों को राहत राशि मिलने की डेडलाइन तय की। जिले में 500 करोड़ से ज्यादा का मुआवजा बंटना था। आलम यह है कि डेडलाइन पूरी होने तक 36 करोड़ की राशि ही वितरित हो सकी है। अब जिम्मेदार पटवारियों व तहसीलदारों की हड़ताल का बहाना बना रहे हैं। इधर, कलेक्टर कह रहे हैं कि फसलों का मुआवजा बाकी है। कमिश्नर ने ढीले रवैये को लेकर लताड़ गई तो जिला प्रशासन ने 20 अक्टूबर तक का समय मांग लिया।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कयामपुर क्षेत्र में 15 अक्टूबर तक हर तरह की सहायता राशि व मुआवजा राशि देने की घोषणा की। इसमें किसानों की कर्ज माफी भी शामिल थी। तीन माह का बिजली का बिल माफ करने की बात कही लेकिन हालत यह है कि डेडलाइन खत्म हो गई और जिले में लोगों को राहत का नाम नहीं है। जिला प्रशासन ने 500 करोड़ के मुआवजे का आकलन किया। जबकि अभी तहसीलों में मुआवजे के आवेदन पहुंच ही रहे हैं। जिससे यह आकलन अधिक हो सकता है। सीएम के घोषणा के अनुसार 15 अक्टूबर तक 500 करोड़ का मुआवजा दिया जाना था, लेकिन अब तक 7 फीसदी कुल 36 करोड़ 23 लाख का मुआवजा ही वितरित हो पाया है। हैरान की बात यह है कि अधिकारी मकान क्षति व अन्य हानि की मुआवजा राशि वितरित करने की बात कह रहे हैं।

बाढ़ के दौरान इस तरह धानमंडी क्षेत्र में दुकानें डूब गई थीं।

9 अगस्त को तालाब फूटा आज तक कुछ नहीं मिला

शहर के करीब 10 किमी दूर ग्राम बाजखेड़ी में 9 अगस्त की रात को तालाब फूट गया था। लोगों को भारी नुकसानी की स्थिति का जायजा लेने राजस्व मंत्री गोविंदसिंह राजपूत, कलेक्टर, एसडीएम, विधायक आदि ने सर्वे किया। कई घरों में पानी घुसा, लोगों का लाखों का नुकसान हुआ लेकिन आज तक राहत नहीं मिली। गांव के दिलीप कुमार भाटी ने बताया कि तालाब फूटने पर पांच से सात फीट पानी घुस गया। घर में रखा चना, गेहूं, मैथी, सोयाबीन पूरी तरह से नष्ट हो गई। लगभग 15 से 20 लाख का नुकसान हुआ।

बाढ़ में दुकान डूबी, 80 लाख का नुकसान हुआ



जानिए, लोगों का दर्द





एक दो दिन लगेंगे


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना