पर्यावरण की क्षति : धुंधड़का के गांवों में आम सहित कीमती पेड़ों की हो रही कटाई

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:25 AM IST

Mandsour News - भास्कर संवाददाता | धुंधड़का पर्यावरण संरक्षण काे लेकर हर साल शासन-प्रशासन द्वारा लोगों को प्रेरित कर पाैधारोपण...

Mandsour News - mp news environmental damage in the villages of dhindhak harvesting of precious trees including mangoes
भास्कर संवाददाता | धुंधड़का

पर्यावरण संरक्षण काे लेकर हर साल शासन-प्रशासन द्वारा लोगों को प्रेरित कर पाैधारोपण किया जाता है। ऐसा इसलिए ताकि पेड़ों की अंधाधुंध कटाई के चलते जहां ग्लोबल वार्मिंग बढ़ा है, वहीं कम बारिश के चलते जलस्तर भी गिरने लगा है। इसकाे देखते हुए पर्यावरण की दिशा में बेहतर कार्य कर इनमें सुधार लाया जा सके। इस समय क्षेत्र के कई गांवाें में आम, नीम व अन्य बेशकीमती पेड़ों की कटाई की जा रही है। यहां की लकड़ियों का परिवहन भी खुलेआम हो रहा है। इसके बाद भी प्रशासनिक अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं।

धुंधड़का क्षेत्र के ग्राम धुंधड़का, धमनार, बड़वन, लसुडावन, भाटरेवास, अफजलपुर गांवों में हर दिन हरे-भरे पेड़ों की कटाई हो रही है। ये पेड़ अधिकतर किसानों के खेतों में होते हैं। किसान बारिश के पूर्व फैक्ट्री संचालकांे को पेड़ों की कटाई का ठेका दे देते हैं। ठेकेदार मशीनों ने कटाई कर अपने वाहनों से इन्हें मंदसौर ले जा रहे हैं। इसके बाद भी प्रशासन व पंचायत स्तर पर सरपंच व सचिव कुंभकरणी नींद सोए हुए हैं। बता दें कि पंचायतों को अवैध कटाई पर प्रतिबंध लगाने व कानूनी कार्रवाई करने के लिए अधिकार हैं। वहीं राजस्व विभाग के अधिकारियों की अनदेखी भी पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रही है।

इस तरह खुलेआम टप्पा कार्यालय के सामने से किए जा रहा लकड़ियों का परिवहन।

पेड़ों की कटाई पर होनी चाहिए कार्रवाई

पर्यावरण मित्र निशात सिद्दीकी ने बताया कि हर दिन हरे-भरे पेड़ों की कटाई हो रही है जो उचित नहीं है। गर्मी के समय प्रशासनिक अधिकारी कार्रवाई को लेकर दफ्तरों से बाहर नहीं निकलते हैं। इसी का फायदा उठाकर फैक्ट्री संचालक अवैध, सस्ती व बेशकीमती लकड़ियों के लिए गांवों में जाकर पेड़ों की खरीदी करते हैं। ग्राम पंचायतें भी चाहें तो पेड़ बेचने व खरीदने वालों पर सख्ती से कार्रवाई कर सकती हैं। राजस्व अमले को भी समय-समय पर कार्रवाई करनी चाहिए। ताकि कार्रवाई के डर से अन्य लोग भी पेड़ों की कटाई से दूरी बनाए।

ऐसी सूचना नहीं मिली हैं, नियमानुसार कार्रवाई करेंगे


X
Mandsour News - mp news environmental damage in the villages of dhindhak harvesting of precious trees including mangoes
COMMENT