• Hindi News
  • Mp
  • Mandsour
  • Garoth News mp news save the existence of daughters and ensure their safety pandit bairagi

बेटियों के अस्तित्व को बचाएं एवं उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करें : पंडित बैरागी

Mandsour News - शिक्षा के साथ-साथ बेटियों को अन्य क्षेत्रों में भी आगे बढ़ाएं एवं उनकी भागीदारी को सुनिश्चित करना ही हमारा मुख्य...

Feb 15, 2020, 07:21 AM IST
Garoth News - mp news save the existence of daughters and ensure their safety pandit bairagi

शिक्षा के साथ-साथ बेटियों को अन्य क्षेत्रों में भी आगे बढ़ाएं एवं उनकी भागीदारी को सुनिश्चित करना ही हमारा मुख्य लक्ष्य होना चाहिए। बेटियों के अस्तित्व को बचाएं एवं उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करें।

यह बात हेमलता लोनारे की स्मृति में खड़ावदा में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के दौरान पंडित अमन बैरागी ने कही। उन्होंने कहा कि भारत की जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है लेकिन सबसे अधिक दुर्भाग्य की बात यह है कि बढ़ती जनसंख्या के बावजूद बेटियों का अनुपात घटता जा रहा है। भारत की 2001 की जनगणना के अनुसार, प्रत्येक हजार लड़कों पर 927 लडकियां थीं, हालांकि 2011 की जनगणना में ये आंकड़े 943 लड़कियों पर आए हैं। बाल लिंग अनुपात में 195 देशों में से 41वां स्थान भारत को दिया है, यानी की हम लिंग अनुपात में 40 देशों से पीछे हैं। उन्होंने कहा कि माता-पिता की छाया में ही जीवन संवरता है। माता-पिता, जो नि:स्वार्थ भावना की मूर्ति हैं, वह संतान को ममता, त्याग, परोपकार, स्नेह, जीवन जीने की कला सिखाते हैं। माता एवं पिता इन दो स्तंभों पर भारतीय संस्कृति मजबूती से स्थिर है। माता-पिता भारतीय संस्कृति के दो ध्रुव हैं। माता-पिता की सेवा और उनकी आज्ञा पालन से बढ़कर कोई धर्म नहीं है। पिता-पुत्र संबंधों का सबसे उदात्त स्वरूप भगवान श्रीराम और राजा दशरथ के उदाहरण से मिलता है। पिता की आज्ञा को सर्वोच्च कर्तव्य मानना और उसके लिए स्वयं के हित और सुख का बलिदान कर देना राम के गुणों में सबसे बड़ा गुण माना जाता है। शुक्रवार की कथा में भगवान श्रीराम के जन्मोत्सव एवं भगवान की बाल लीलाओं की कथा का वर्णन के साथ ही माखन की होली खेलकर भगवान श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया।

संबंधों का सबसे उदात्त स्वरूप भगवान श्रीराम और राजा दशरथ के उदाहरण से मिलता है। पिता की आज्ञा को सर्वोच्च कर्तव्य मानना और उसके लिए स्वयं के हित और सुख का बलिदान कर देना राम के गुणों में सबसे बड़ा गुण माना जाता है। शुक्रवार की कथा में भगवान श्रीराम के जन्मोत्सव एवं भगवान की बाल लीलाओं की कथा का वर्णन के साथ ही माखन की होली खेलकर भगवान श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया।


नंद के घर आनंद भयो पर झूमे श्रद्धालु

सुमधुर भजन पर कथा में उपस्थिति श्रद्धालुजन नाचने-झूमने लगे, फूलों की बरसात हुई। मिठाई वितरण के साथ प्रभु के प्राकट्योत्सव का खूब उत्सव मनाया गया। मंगल गीत गाकर पूरा पंडाल कृष्णमय हो गया। इस अवसर पर उपस्थित श्रद्धालुजन भगवान के जन्मोत्सव के साक्षी बने और धर्मलाभ लिया। कथा के बाद आरती एवं प्रसाद वितरण किया गया। आज कथा में गोवर्धन पूजन एवं 56 भोग का आयोजन किया जाएगा।

खड़ावदा में आयोजित श्रीमद भागवत कथा का श्रवण करतीं युवतियां व महिलाएं।

X
Garoth News - mp news save the existence of daughters and ensure their safety pandit bairagi

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना