--Advertisement--

विधायक को घेरा, बोले- हमारा सिक्का खोटा, वोट फॉर नोटा

एट्रोसिटी एक्ट का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा। मंदसौर-नीमच जिले में सांसद के विरोध के बाद अब विधायकों का घेराव व...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 04:21 AM IST
एट्रोसिटी एक्ट का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा। मंदसौर-नीमच जिले में सांसद के विरोध के बाद अब विधायकों का घेराव व विरोध भी शुरू हो गया है। लोगों की नाराजगी का शिकार मंगलवार को विधायक यशपालसिंह सिसौदिया को भी होना पड़ा। कार्यक्रम में शामिल होने बालोदिया गांव जा रहे विधायक को ग्रामीणों व करणी सेना के सदस्यों ने घेराव कर विरोध दर्ज कराया। इस दौरान उन्होंने ‘हमारा सिक्का निकला खोटा, वोट फॉर नोटा’ के नारे भी लगाए। विधायक सिसौदिया ने कानून की जानकारी मांगी व स्थिति स्पष्ट कराने की बात कही। उन्होंने कानून के जानकारों व मुख्यमंत्री से बात कर समस्या के समाधान का आश्वासन दिया।

एट्रोसिटी एक्ट में बिना जांच केवल आरोप लगने पर ही जेल में डालने के नियम का सामान्य, पिछड़ा व अल्पसंख्यक वर्ग द्वारा विरोध किया जा रहा है। कुछ दिनों से संसदीय क्षेत्र में जगह-जगह सांसद का घेराव कर एक्ट पर बहस के दौरान उनसे संसद में चुप रहने को लेकर सवाल किए। इन सवालों का वे कोई जवाब नहीं दे पाए। इससे गांवों में उनके पुतले भी जलाए जा रहे हैं। अब विधायकों का भी घेराव शुरू हो गया है। बालोदिया में समाज की धर्मशाला का भूमिपूजन करने जा रहे विधायक सिसौदिया को ग्रामीणों ने गांव के बाहर रोड पर ही रोक दिया। इस पर विधायक ने कहा यह सांसद का मामला है, बिल संसद में पास हुआ। ग्रामीणों ने कहा- आप भी तो पार्टी के ही हैं। इतना कह कर वे ‘हमारा सिक्का निकला खोटा, वोट फॉर नोटा’ व ‘कमल का फूल, हमारी भूल’ जैसे नारे लगाने लगे। इसके बाद ग्रामीणों व करणी सेना सदस्यों ने एक्ट के विरोध में विधायक सिसौदिया को ज्ञापन दिया। विधायक ने यह बात मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्रियों तक पहुंचाने का आश्वासन दिया।

विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने कहा कानून के जानकारों और मुख्यमंत्री से बातकर स्थिति स्पष्ट करूंगा, समस्या का समाधान करेंगे

‘किसी बदलाव से वर्गविशेष का हित प्रभावित हो रहा है तो सुधार के प्रयास करेंगे’

एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में बालोदिया गांव में ग्रामीणों ने विधायक सिसौदिया को घेर लिया और नाराजगी जताई। बाद में उन्हें ही ज्ञापन भी सौंपा।