--Advertisement--

लक्ष्मण को लगी शक्ति हनुमान लाए संजीवनी बूटी

वायगांव में चल रही रामलीला में लक्ष्मण शक्ति, कालनेमी वध की कथा का मंचन हुआ। लीला की शुरुआत रावण दरबार से हुई।...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 04:05 AM IST
वायगांव में चल रही रामलीला में लक्ष्मण शक्ति, कालनेमी वध की कथा का मंचन हुआ। लीला की शुरुआत रावण दरबार से हुई। मेघनाद अपने पिता रावण की आज्ञा लेकर युद्ध करने पहुंचा। मेघनाद और लक्ष्मण के बीच घमासान युद्ध हुआ। मेघनाद ने लक्ष्मण पर शक्ति बाण का प्रयोग किया। शक्तिबाण लगने से लक्ष्मण धरती पर गिर गए। भगवान श्रीराम को चिंतित देख जामवंत ने हनुमान से उपचार के लिए लंका से सुशेन वैद्य को लेकर आने के लिए कहा। हनुमान वैद्य को लेकर पहुंचे। वैद्य के कहने पर हनुमान संजीवनी बूटी लेने के लिए निकले। रास्ते में राक्षस कालनेमी ने उनका रास्ता रोका।

कालनेमी का वध कर हनुमान सुमेरू पर्वत पर पहुंचे। संजीवनी बूटी की पहचान नहीं होने से पूरा पर्वत लेकर श्रीराम के पास पहुंचे। ग्रामीण कलाकार वासुदेव पातुलकर ने रावण, दुर्गेश भोयरे ने मंदोदरी, कृष्णा माथनकर ने मेघनाद, बालकिशन भोयरे ने कालनेमी, कृष्णा मायवाड़ ने हनुमान का अभिनय किया।