• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Multai News
  • 6 साल की बालिका को कुएं में फेंकने वाली सौतेली मां को तीन साल की सजा
--Advertisement--

6 साल की बालिका को कुएं में फेंकने वाली सौतेली मां को तीन साल की सजा

ग्राम बिछवा में सौतेली मां ने छह साल की बालिका को कुएं में फेंक दिया था। बालिका की सगी मां की शिकायत पर पुलिस ने...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 04:35 AM IST
ग्राम बिछवा में सौतेली मां ने छह साल की बालिका को कुएं में फेंक दिया था। बालिका की सगी मां की शिकायत पर पुलिस ने कुएं में फेंकने वाली सौतेली मां के खिलाफ हत्या के प्रयास में केस दर्ज किया था। इस मामले में प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश एमएस तोमर ने बालिका को कुएं में फेंकने वाली सौतेली मां को हत्या के प्रयास के आरोप में दोषी ठहराते हुए 3 साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई।

सरकारी वकील भोजराज सिंह रघुवंशी के अनुसार बिछवा निवासी सरिता बाई ने 4 मार्च 2016 को रिपोर्ट दर्ज कराते हुए बताया था उसका विवाह 9 साल पहले राजू पवार के साथ हुआ था। उसकी पुत्री सुनिधि (6) आंगनबाड़ी में पढ़ती है। पति राजू ने तीन साल पहले मीना बाई निवासी कुंडई से दूसरा विवाह कर लिया था। वह और उसकी सौतन मीना सास-ससुर के साथ रहते हैं। पति राजू अहमदाबाद में प्राइवेट नौकरी करता है। 27 फरवरी 2016 को वह अपनी ननद और जेठानी के साथ मजदूरी करने दूसरे गांव गई थी। शाम को घर आई तो सुनिधि के सिर में चोट देखी। चोट का कारण पूछने पर सुनिधि ने बताया वह छोटी मम्मी मीना के साथ कुएं वाले खेत पर गई थी। खाने के लिए चना उखाड़ रही थी तो छोटी मम्मी ने डांटकर धक्का दे दिया। जिससे वह कुएं में गिर गई। धक्का देने के बाद छोटी मम्मी मीना बाई भाग गई। चिल्लाने पर उसे पड़ोसी किसान सोजर ने कुएं से बाहर निकाला। सरिता बाई की रिपोर्ट पर पुलिस ने मीना बाई के खिलाफ केस दर्ज कर प्रकरण न्यायालय में प्रस्तुत किया। न्यायाधीश तोमर ने मीना बाई को हत्या के प्रयास में दोषी ठहराते हुए 3 साल के सश्रम कारावास और 5 हजार रुपए अर्थदंड से दंडित किया।