• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Multai News
  • सेवा, साधना और सत्संग को बनाओ जीवन का मूल आधार : पंडित नामदेव महाराज
--Advertisement--

सेवा, साधना और सत्संग को बनाओ जीवन का मूल आधार : पंडित नामदेव महाराज

नर में ही नारायण का वास होता है। इसलिए हमेशा दूसरों की मदद करते रहना चाहिए। सेवा, साधना और सत्संग को जीवन में उतारने...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:55 AM IST
नर में ही नारायण का वास होता है। इसलिए हमेशा दूसरों की मदद करते रहना चाहिए। सेवा, साधना और सत्संग को जीवन में उतारने से कष्टों का नाश हो जाता है।

हर पल दूसरों की सेवा करने वालों पर प्रभु की कृपा बनी रहती है। यह बात प्रभातपट्टन में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में पं. नामदेव महाराज ने कही। पं. नामदेव ने कृष्ण की बाल लीलाओं का भी रोचक प्रसंग सुनाया। उन्होंने कहा धर्म की रक्षा और पापियों का नाश करने के लिए भगवान धरती पर अवतार लेते हैं। कृष्ण लीला की कथा में छोटे-छोटे बच्चों की आकर्षक झांकी बनाई। नामदेव महाराज ने कहा कलयुग में प्रभु नाम के स्मरण से पापों का नाश हो जाता है। इसके बाद भी मनुष्य प्रभु नाम का स्मरण नहीं कर रहा है।

भागवत कथा

हर पल दूसरों की सेवा करने वालों पर भगवान की कृपा बनी रहती है

मुलताई. भागवत में प्रसंग के अनुरूप झांकी सजाकर सुनाई जा रही कथा।

मन व परिवार में शांति ही सबसे बड़ा धन है

मनुष्य धन कमाने में व्यस्त है। धन कमाने के बाद भी मनुष्य खुश नहीं है। मन और परिवार में शांति ही सबसे बड़ा धन होता है। युवाओं को धर्म और भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए आगे आने की समझाइश दी। उन्होंने कहा आज का युवा नशे का आदी हो रहा है। जिससे घर, परिवार और समाज में अशांति फैल गई है। रविवार को हवन, पूजन और भंडारा प्रसादी के साथ कथा का समापन होगा।