--Advertisement--

भागवत सुनने से मनुष्य का भाग्योदय होता है: वेदांती

हर किसी को भागवत सुनने का मौका नहीं मिलता है। सौभाग्यशाली व्यक्ति ही पूरी भागवत कथा का सुन सकते हैं। कथा सुनने और...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 06:10 AM IST
हर किसी को भागवत सुनने का मौका नहीं मिलता है। सौभाग्यशाली व्यक्ति ही पूरी भागवत कथा का सुन सकते हैं। कथा सुनने और उसे जीवन में उतारने से मनुष्य का भाग्योदय होता है। यह बात मोही में भागवत कथा के पहले दिन ब्रह्मर्षि डॉ. रामविलासदास वेदांती ने कही। श्रीमद भागवत कथा ज्ञानयज्ञ की शुरुआत कलश यात्रा के साथ हुई। कथा स्थल से बाजे-गाजे के साथ कलश यात्रा निकली। गांव का भ्रमण कर कलश यात्रा कथा स्थल पहुंची। जहां वेदांती महाराज ने भागवत कथा सुनने का महत्व बताया। ग्रामीणों ने बताया भागवत कथा रोज दोपहर 2 से 5 और रात 7 से 10 बजे तक होगी।

आयोजन

मोही में कलश यात्रा के साथ शुरू हुई श्रीमद भागवत कथा, लाेगों को महत्व बताया

मुलताई। मोही गांव में कलश यात्रा के साथ शुरू हुई भागवत कथा।

गोमाता की सेवा से मिलेगी मुक्ति : पं. भूपेंद्र बिलगैया

परसोड़ी गांव में चल रहे भागवत ज्ञानयज्ञ और हरिनाम कीर्तन सप्ताह में पं. भूपेंद्र बिलगैया ने गोमाता की सेवा का संकल्प दिलाया। पं. बिलगैया ने कहा हम सब ऋषि संतान हैं। हमारी संस्कृति में गोमाता को जननी के रूप में पूजा जाता है। हम सब का दायित्व है गोमाता की सेवा करें। गोसेवा से ही मुक्ति मिल सकती है। उन्होंने कहा वर्तमान में हम अपनी संस्कृति को भूलते जा रहे हैं। गोमाता की सेवा और रक्षा करना भूल गए हैं। जिससे गोमाता कत्लखाने जा रही हैं। उन्होंने कहा घर में बच्चों को अच्छे संस्कार देने की जरूरत है। जिससे समाज में संस्कारवान युवक आगे आएं। ग्रामीणों ने बताया 5 फरवरी को हवन-पूजन और पूर्णाहुति के साथ अनुष्ठान का समापन होगा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..