• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Murena News
  • दोस्तों ने बीआरसी के साथ शराब पी, फिर हत्या कर अंगूठी-ब्रेसलेट लूटा और फेंक गए शव
--Advertisement--

दोस्तों ने बीआरसी के साथ शराब पी, फिर हत्या कर अंगूठी-ब्रेसलेट लूटा और फेंक गए शव

बीआरसी केशव सिंह यादव को बदमाशों ने अपहरण के चंद घंटों बाद ही मौत के घाट उतार दिया था। उनकी डेडबॉडी महाराजपुर...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 04:35 AM IST
बीआरसी केशव सिंह यादव को बदमाशों ने अपहरण के चंद घंटों बाद ही मौत के घाट उतार दिया था। उनकी डेडबॉडी महाराजपुर स्थित एक खेत में पड़ी मिली है। जिसे पुलिस ने आरोपी रामनरेश व पप्पू धाकड़ की निशानदेही पर गुरुवार शाम जब्त किया। डेडबॉडी को पीएम के लिए रखवाया गया है। शुक्रवार की सुबह शव का पीएम कराने के बाद उसे परिजन को सौंपा जाएगा। हत्या की बजह पुलिस ने बदमाशों को पैसे की जरूरत होना बताया है। लेकिन खेत में मिली डेडबॉडी की हालत पुलिस की कहानी को चुनौती दे रही है।

पुलिस का कहना है कि रामनरेश पुत्र गोरे धाकड़, बीआरसी केशव सिंह यादव का अच्छा दोस्त था। जुए में पैसे हार जाने के बाद रामनरेश को पैसे की आवश्यकता थी। इसलिए उसने अपने दोस्त पप्पू उर्फ रणवीर धाकड़ से बात की और बीआरसी केशव सिहं को लूटने का प्लान बनाया। पुलिस के अनुसार पप्पू अपराधी किस्म का व्यक्ति है इसके ऊपर बाहरी जिलों में लूट व अपहरण की संगीन वारदातें दर्ज है। लूट की नियत से रामनरेश 17 फरवरी की शाम केशव सिंह को घर से बुलाकर मुरैना ब्रांच कैनाल (नहर) के पास ले गए और वहां बैठकर शराब का सेवन किया। इसी दौरान पप्पू ने एक डंडा लाकर पीछे से केशव सिहं के सिर पर जोरदार प्रहार किया जिससे उनकी मौत हो गई। इसके बाद दोनों आरोपियों ने डेडबॉडी को उठाकर एक खेत में फेंक दिया और शरीर से सोने की अंगूठियां, चेन व ब्रेसलेट उतारकर आपस में बांटा और फरार हो गए।

पुलिस का दावा-पैसों के लिए बीआरसी के दोस्त रामनरेश व पप्पू ने ही की है हत्या

बीआरसी की मौत की खबर के बाद डेड हाउस पर मौजूद परिजन और परिचित।

परिवार को नहीं बताया कि बीआरसी की हो गई हत्या

बीआरसी का शव पुलिस ने पीएम हाउस में लाकर रख दिया। लेकिन बीआरसी केशव सिंह की प|ी कपूरी देवी व बेटा संजय अभी इस बात से अनभिज्ञ हैं कि उनके मुखिया की हत्या हो गई है। रिश्तेदारों ने परिजन को इस सच्चाई से इसलिए दूर रखा है कि डेडबॉडी का पीएम शुक्रवार की सुबह होगा तब तक बीआरसी की प|ी व बेटा का रो-रोकर बुरा हाल होगा। पीएम होने के बाद ही वह उन्हें इस सच्चाई से वाकिफ करा पाएंगे।

हत्या के बाद जयपुर भाग गए थे दोनों बदमाश

पुलिस बता रही है कि बदमाशों ने पहले सुमावली व उसके आसपास के क्षेत्र में इधर-उधर छिपकर बचने का प्रयास किया लेकिन एक दबिश के दौरान आरोपी भागे और जैसे-तैसे जयपुर निकल गए। पुलिस इन्हें जयपुर से ही पकड़कर लाई है। पूछताछ में आरोपियों ने अपना गुनाह कबूला। आरोपियों से केशव सिंह के गहने भी बरामद हो गए हैं।

रुपयों के लिए की गई बीआरसी की हत्या


दोनो आरोपियों ने बताई अलग-अलग कहानी

दैनिक भास्कर ने जब सिविल लाइन थाने पहुंचकर आरोपी रामनरेश व पप्पू से बात की तो पप्पू ने बताया कि रामनरेश को पैसे की जरूरत थी इसलिए उसने मेरे साथ मिलकर उसे मारने का प्लान बनाया था। लेकिन पप्पू की इस बात को रामनरेश ने झुठला दिया। उसने कहा कि मुझे तो बीआरसी केशव सिंह जब भी पैसे की जरूरत होती थी उधार दे देते थे। हम तो खेत में बैठकर शराब पी रहे थे। इसी दौरान पप्पू ने जाने क्यों सिर पर लाठी मारकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया। आरोपियों से कुछ और सवाल होते तब तक उसे लेकर लॉकअप में बंद कर दिया गया।