10 साल की अद्रिका और भाई कार्तिक को बहादुरी के लिए राष्ट्रपति देंगे अवॉर्ड, भारत बंद के दौरान पथराव और फायरिंग के बीच ट्रेन में फंसे लोगों के लिए खिलाया था खाना, घर से निकलते वक्त मां ने टोका..., पूछा कहां जा रहे हो, इस पर हमने कहा- यहीं हैं... / 10 साल की अद्रिका और भाई कार्तिक को बहादुरी के लिए राष्ट्रपति देंगे अवॉर्ड, भारत बंद के दौरान पथराव और फायरिंग के बीच ट्रेन में फंसे लोगों के लिए खिलाया था खाना, घर से निकलते वक्त मां ने टोका..., पूछा कहां जा रहे हो, इस पर हमने कहा- यहीं हैं...

सुमित दुबे

Jan 14, 2019, 12:55 PM IST

मुरैना न्यूज: पढ़िए अद्रिका और कार्तिक की कहानी उन्हीं की जुबानी...

adrika and brother karthik to honored national children award by president for bravery

मुरैना (एमपी)। 10 साल की बच्ची अद्रिका और उसके 14 साल के भाई कार्तिक को बहादुरी की कैटेगरी में नेशनल चिल्ड्रन अवॉर्ड के लिए चुना गया है। पिछले साल 2 अप्रैल को मध्यप्रदेश के मुरैना में भारत बंद के दौरान पथराव और फायरिंग के बीच ट्रेन में फंसे मुसाफिरों को खाना पहुंचाने के लिए इन्हें यह अवॉर्ड मिलेगा। राष्ट्रपति 24 जनवरी को अवॉर्ड देंगे। अद्रिका और कार्तिक की कहानी उन्हीं की जुबानी...

मुरैना में पुलिस ने रोका पर हम छिपकर ट्रेन तक पहुंचे और लोगों को खाना खिलाया

बीते साल दो अप्रैल की बात है। भारत बंद आंदोलन के चलते स्कूल में छुट्टी थी। हम दोनों टीवी देख रहे थे। टीवी पर देखा कि आंदोलन हिंसक हो गया है। हमारे शहर में फायरिंग और पथराव हो रहा है। उपद्रवियों ने ट्रेनें तक रोक दी हैं। हजारों यात्री छह घंटे से भूखे-प्यासे फंसे हुए हैं। हम दोनों ने तय किया कि ट्रेन में फंसे यात्रियों की मदद करनी चाहिए। पापा घर में नहीं थे। हमने चुपके से खाने-पीने का सामान एक थैले में भरा और पास में स्थित (300 मीटर दूर) स्टेशन के लिए चल पड़े।

घर से निकलते वक्त मां ने टोका..., पूछा- कहां जा रहे हो। इस पर हमने कहा- यहीं हैं। रास्ते में पुलिसवालों ने रोका। हमसे कहा कि घर में रहो, यहां खतरा है। पर हम दोनों किसी तरह बचते-बचाते ट्रेन तक जा पहुंचे। ट्रेन में मौजूद लोगों को हमने खाना दिया तो किसी को भरोसा ही नहीं हुआ। एक महिला ने कहा कि तुम लोग खाना नहीं लाते तो मेरी बच्ची का क्या होता। फिर हम लोग घर लौटे तो दादाजी ने खूब डांट लगाई। जब हमने उन्हें बताया कि हम ट्रेन में फंसे लोगों को खाना पहुंचाने गए थे तो वे चुप हो गए। और उन्होंने हमें गले लगा लिया। अवॉर्ड मिलने पर सबसे ज्यादा खुशी दादाजी को ही हो रही है।'

दोनों बड़े होकर बनना चाहते हैं IAS और IPS अधिकारी


बच्चों के पिता ने बताया कि उन्होंने इस अवॉर्ड के लिए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की वेबसाइट के जरिए ऑनलाइन आवेदन किया था। बाद में दिल्ली से दो अफसरों की टीम मुरैना आई थी और उन्होंने घटना की सत्यता की जांच भी की थी। अद्रिका और कार्तिक ने कहा कि वे दोनों बड़े होकर आईएएस और आईपीएस अिधकारी बनना चाहते हैं।


भारत बंद के दौरान पथराव और फायरिंग के बीच ट्रेन में फंसे लोगों के लिए खाना पहुंचाया था...


अद्रिका 20 हजार लोगों को आत्मरक्षा की ट्रेनिंग भी दे चुकी हैं... अद्रिका ताइक्वांडो में ब्लैक बेल्ट है। वो 20 हजार स्कूली बच्चों को आत्मरक्षा की ट्रेनिंग दे चुकी है। इसलिए उसे 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान का ब्रांड एंबेसडर भी बनाया गया है।

X
adrika and brother karthik to honored national children award by president for bravery
COMMENT